चेहरे व बालों से होली के रंग छुड़ाने के आसान तरीके

चेहरे व बालों से होली के रंग छुड़ाने के आसान तरीके

रंगों का त्यौहार होली बड़ों, बजुर्गों खासतौर पर बच्चों का पसंदीदा त्यौहार होता है क्योंकि इस त्यौहार में रंगों, व्यंजनों के साथ-साथ पूरा धमाल होता है। होली का उत्साह पूरा दिन ऐसे ही बना रहता है लेकिन परेशानी तब होती है जब बात चेहरे, बालों और त्वचा पर लगे रंग को छुड़ाने की आती है। जब यह समय आता है तो हम यही सोचते है कि होली के रंग कैसे छुड़ाएं (How to Remove Holi Colour from face)?

चेहरे व बालों से कैसे छुडाएं होली के रंग (How to Remove Holi Colour from face in Hindi)

रंगों के बिना होली पूरी नहीं होती इसलिए होली को रंगों के साथ न खेला जाए, ऐसा तो हो ही नहीं सकता, ऐसे में प्राकृतिक रंगों का प्रयोग करना ही लाभदायक है लेकिन अगर फिर भी कोई आप पर केमिकल युक्त या पक्के रंगों का प्रयोग करता है तो परेशान न हो। आज हम आपको बताते हैं कि होली के रंग आसानी से कैसे छुड़ाए (rang kaise chudaye)?  

होली से पहले क्या करें (Pre Holi Tips in Hindi)

होली से एक दिन पहले अपने बालों पर अच्छे से तेल लगा लें। तेल से बालों पर मालिश करने से बालों का पूरा पोषण होगा, रंगों के प्रभाव से बाल रूखे नहीं होंगे और बालों से रंग भी आसानी से निकला जाएगा। इसके साथ ही अपने चेहरे या त्वचा पर भी होली खेलने जाने से पहले वेसलीन, लोशन या कोई अच्छी क्रीम लगा लें ताकि आपकी त्वचा और चेहरे को कोई नुकसान न हो। होली से एक या दो दिन पहले शैंपू न करें इससे बालों को रंगों से कम नुकसान पहुंचेगा क्योंकि हमारे सिर में मौजूद प्राकृतिक तेल बालों को हानिकारक रंगों से बचाने का काम करता हैं। इसे भी पढ़ेंः घर पर होली के प्राकृतिक रंग बनाने की विधि

चेहरे से होली के रंग छुड़ाने के उपाय (Tips to Remove Holi Colors from Face in Hindi)

होली के रंगों के अधिक प्रभाव से अपने चेहरे को बचाने के लिए अपने चेहरे से बार-बार रंग को निकालते रहें। निकालने से मतलब चेहरे को धोना नहीं है बल्कि बार-बार अपने चेहरे से रंगों को झाड़ते रहें। अगर आप बार-बार अपने चेहरे से रंग को धोयेंगे तो ऐसा करने से आपकी त्वचा रूखी हो जाएगी और उसे नुकसान पहुंचेगा। चेहरे से होली कलर छुड़ाने के तरीके (holi ka rang chudane ke tarike) निम्न हैं:

#1. दही (Curd)

दही रंग को चेहरे से छुड़ाने का सबसे आसान उपाय है। त्वचा के जिन-जिन हिस्सों में रंग लगा है, उन हिस्सों पर दही लगा कर हल्के से मालिश करें। ऐसा करने से होली का रंग धीरे-धीरे हल्का होगा और निकल जायेगा।

#2. नींबू (Lemon)

नींबू और बेसन का घोल पक्के रंगों को भी हल्का करने में असरदार है। नींबू और बेसन का पेस्ट बना कर अपने चेहरे और त्वचा के उन हिस्सों में लगाएं जहाँ रंग लगा है और उसके बाद उसे हल्के हाथों से निकाल दें।

#3. जौ का आटा (Barley flour)

जौ के आटे में थोड़ा सा दूध या दही मिलाकर पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को अपने चेहरे या जहाँ भी रंग लगा है वहां लगा दें। इसके बाद इस पेस्ट के सूखने पर उसे धो लें। रंग छुड़ाने में यह उपाय भी बेहतरीन है।

#4. बादाम का तेल (Almond Oil)

बादाम का तेल गहरे रंग को छुड़ाने में भी असरदार है। बादाम के तेल को त्वचा पर लगाने या इसका मुल्तानी मिट्टी के साथ पेस्ट बना कर लगाने से भी चेहरे पर लगा रंग छूट जाता है।

#5. केला या खीरा (Banana or Cucumber)

खीरा और केला दोनों अच्छे क्लीज़र है। केले को मैश करके उसमे नींबू का रस मिला लें और इसके बाद इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाकर कुछ देर ऐसे ही छोड़ दें। इसके बाद धीरे-धीरे इस पेस्ट को निकालें। इससे आपकी त्वचा का उचित पोषण भी होगा। ऐसे ही खीरे का भी पेस्ट बना लें या इसे अपने चेहरे पर मलें।

#6. मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti)

मुल्तानी मिट्टी का गुलाब जल के साथ पेस्ट बना लें और इसे चेहरे या त्वचा के उन हिस्सों पर लगाएं जहाँ रंग लगा है। उसके बाद चेहरे और त्वचा को धो दें। इससे न केवल आपकी त्वचा को रंगों के नुकसान जैसे जलन या पिम्पल से मुक्ति मिलेगी बल्कि आपकी त्वचा का रंग भी और निखरेगा।

#7. पपीता (Papaya)

पके हुए पपीते को त्वचा पर रगड़ने से चेहरे से रंग आसानी से निकल जाता है। पपीते के एक टुकड़े को चेहरे पर रगड़ लें, इससे रंग आसानी से निकल जाएगा।

#8. दाल (lentils)

रंग को निकालने के लिए दालें बेहतरीन उपाय है।  किसी भी दाल जैसे मसूर की दाल को रात भर भिगो कर रखें और उसके बाद उसे पीस लें। पीसी हुई दाल में थोड़ा दूध मिला कर पेस्ट बना लें और त्वचा पर लगाकर कुछ देर तक रखें और उसके बाद इसे धो दे। अगर दाल को भिगोया नहीं है तो भी आप इसे पीस कर इसका स्क्रब बना कर प्रयोग में ला सकते है। इसे भी पढ़ेंः कैसे खेलें सेफ होली

बालों से रंग कैसे छुड़ाएं (Tips to Remove Holi Colour from Hairs in Hindi)

#1. मालिश (Massage)

होली के बाद सबसे पहले खुले पानी से अपने बालों को धो दें ताकि रंग निकला जाए। इसके बाद शैंपू या कंडीशनर का प्रयोग करें। अगर फिर भी बालों में रंग हो तो उस दिन फिर से शैंपू न करें क्योंकि ऐसा करने से आपके बाल रूखे हो जायेंगे। इसके बजाये फिर से बालों में अच्छे से तेल से मालिश करें और अगले दिन बालों को धोएं।

#2. नींबू (Lemon)

बालों से होली के रंग को छुड़ाने (balon par holi ka rang chudane) के लिए दही में बेसन और नींबू के रस को मिला कर अपने सिर पर मालिश करें और उसके बाद किसी मृदु शैंपू से बालों को धो दें। इसके साथ ही नींबू के रस और बेकिंग सोड़ा को मिला कर बालों में लगाकर थोड़ी देर रखने के बाद इन्हें धोने से भी रंग निकल जाता है।

#3. मेथी के दाने (Fenugreek seeds)

मेथी के दानों को रात भर भिगो कर उनका पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को लगभग पंद्रह मिनटों तक बालों में लगा कर रखें और उसके बाद धो दें। इससे न केवल बालों से रंग निकलेगा बल्कि रुसी आदि से भी आप बचे रहेंगे।

#4. आंवले का पानी (Water of amla)

अपने बालों को होली के रंगों के प्रभाव से बचाने के लिए आंवले के पानी में सिरका मिला कर सिर को धोएं। होली के बाद अगर आपके बाल बेजान हो गए हों तो एक केले में थोड़ा दूध डालकर मिक्सर में एक पैक बना लें और उसके बाद उसमे शहद मिला लें। इस पैक को बालों में लगाकर कुछ देर तक ऐसे ही रहने दें और उसके बाद धो लें। बाल पहले की तरह खूबसूरत हो जायेंगे। इसके साथ ही अंडे का पैक बना कर लगाने से भी बालों की खूबसूरती बनी रहती है। नोटः अगर आंखों में रंग पड़ जाए तो सबसे पहले ठंडे साफ पानी से आंखे धोइएं। याद रहें कि अगर बच्चों की आंखों में रंग की वजह से जलन हो रही है तो उन्हें आंखें मत मलने दीजिएं। आंखे मलने से यह आंखों के अंदर फैल सकता है। आंखों पर ठंडे पानी डालने से काफी राहत मिलेगी।   होली के बाद रंगों से छुटकारा पाने के लिए कभी भी गर्म पानी का इस्तेमाल न करें। इससे बालों और चेहरे दोनों को नुकसान होगा। इसके साथ ही ब्लीच करने से भी बचें। कई लोगों को लगता है कि बार-बार त्वचा को रगड़ने या बालों को मलने से रंग जल्दी निकल जाता है लेकिन यह सही नहीं है। ऐसा करना भी हानिकारक हो सकता है। अगर बुरी गुणवत्ता के रंगों के कारण आपकी त्वचा या चेहरे में जलन हो रही है तो शहद के लेप, आलू के टुकड़े या टी-बैग का प्रयोग करें। चेहरे की त्वचा बेहद नाजुक और पतली होती है। ऐसे में इसका रंग निकालने के लिए साबुन की जगह घरेलू नुस्खों का प्रयोग करना फायदेमंद होता है। होली अच्छाई और एकता का प्रतीक है, ऐसे में इसके रंगों से अपने जीवन को रंगीन बनाएं, परेशानी का कारण नहीं। इसे भी पढ़ेंः होली के व्यंजन क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null