गर्भ में अपने शिशु के साथ कनेक्ट होने के 10 मजेदार तरीके

गर्भ में अपने शिशु के साथ कनेक्ट होने के 10 मजेदार तरीके

एक स्त्री के लिए नौ महीने शिशु को अपने गर्भ में पालना और उसे महसूस करने से शानदार फीलिंग शायद ही कोई और होगी। गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में माँ को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है, शिशु और माँ के बीच सम्बन्ध मजबूत होता जाता है। गर्भावस्था के आखिरी कुछ महीनों में माँ स्पष्ट रूप से शिशु को गर्भ में हिलता डुलता महसूस करती हैं यही नहीं शिशु माँ की बातों का जवाब अपनी मूवमेंट या किक से देता है। गर्भ में आप बच्चों को बहुत कुछ सीखा सकती हैं, यही नहीं इसी दौरान आपका रिश्ता भी अपने शिशु के साथ मजबूत हो सकता है। जानिए, गर्भ में अपने शिशु को फील करने के 10 तरीके (Tips to Feel Baby in the Womb) जो बेहद मजेदार हैं।

गर्भ में अपने शिशु को फील करने के 10 मजेदार तरीके (Top 10 Tips to Feel Baby in the Womb)

#1. पेट को छूना या मालिश करना (Touch or massage the stomach)

गर्भ में अपने शिशु को फील करने (Feel Baby in Womb) और उसके साथ कनेक्ट करने का सबसे आसान और मज़ेदार तरीका है धीरे-धीरे अपने पेट को छूना या मालिश करना। इससे आप खुद भी आराम और शांति महसूस करेंगी और साथ ही अपने पेट पर क्रीम या तेल से मालिश करने से आपकी त्वचा भी नरम होगी। अरोमाथेरपी अपने आपको संतुष्ट करने का एक अच्छा तरीका है। इससे आपको शांति से बैठ कर अपने शिशु के बारे में सोचने और उससे बात करने का बेहतरीन अवसर मिलेगा। खुद अपने पेट पर मालिश करें या अपने साथी को मालिश करने को बोलें। ऐसा करने से आप अपनी गर्भावस्था को एन्जॉय कर पाएंगे, यह समय जल्दी व्यतीत होगा और साथ ही बच्चे के साथ आसानी से कनेक्ट हो पाएंगे इसके साथ ही शिशु भी आपके स्पर्श को पहचानने लगेगा।

Read: अद्भुत चीज़े जिन्हें शिशु अपनी माँ के गर्भ में करते हैं

#2. संगीत (Music)

क्या आप जानते हैं कि गर्भ में शिशु के पास सुनने की अद्भुत क्षमता होती है? इसलिए आप संगीत के माध्यम से इसका फायदा उठा सकते हैं। ऐसा भी कहा जाता है कि दस मिनट शास्त्रीय संगीत को सुनने से आप अपने शिशु के विवेक कौशल को बढ़ा सकते हैं। ऐसे ही संगीत शिशु को शारीरिक और मानसिक विकास में भी सहायक सिद्ध होता है। संगीत सुनें या गाना गायें, इससे आपको अपने शिशु से जुड़ने में भी मदद मिलेगी।

#3. अपने शिशु से बात करना (Talk to your baby)

गर्भ में पल रहे शिशु से बात करना आपको तनावमुक्त कर सकता है इसके साथ ही आपके शिशु को अभी आपसे कनेक्ट कर सकता है। शिशु आपकी आवाज़ को पहचानने लगता है और साथ ही जन्म के बाद वह आपसे और भी अधिक जुड़ा हुआ महसूस करेगा। इसके साथ ही जन्म के बाद शिशु आपकी आवाज को अन्य लोगों से अधिक पसंद करेगा। अपने शिशु से बात करें, उसे अपनी दिनचर्या के बारे में बताएं। इससे शुरू-शुरू में आपको अजीब लगेगा लेकिन जल्द आप अपने शिशु से बात करने में आनंद महसूस करेंगी।

#4. शिशु के लिए पढ़ना (Reading for Baby)

अपने बच्चे के लिए कुछ पढ़ना भी उनके साथ बातचीत करने और कनेक्ट करने का एक अच्छा उपाय है। आप शिशु के लिए कहानियां, कवितायें या नर्सरी राइम्स पढ़ सकती हैं, इसके साथ ही धार्मिक ग्रंथों, भजनों या आरतियों का उच्चारण करने से शिशु के अंदर आध्यात्मिक गुणों का संचार होगा। बस कुछ भी पढ़े उसे ज़ोर से पढ़ें। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि गर्भ में भी शिशु आपकी आवाज सुन रहा होता है और साथ ही वो आपसे नए-नए शब्दों को भी सीख सकता है।

#5. खेल खेलना (Play Games)

अपने शिशु के साथ अच्छा समय बिताने का बेहतरीन तरीका है उसके साथ खेल खेलना। एक टोर्च लें और उसे अपने पेट पर डालें। इसके बाद आप शिशु के मूवमेंट को महसूस करेंगे खासकर गर्भावस्था के आखिरी कुछ महीनों में। गर्भ में पल रहे शिशु के लिए यह प्रकाश वैसे ही काम करता है जैसे हमारे लिए सूर्य की रोशनी। जब आप इस रोशनी को बंद या चालू करते हैं तब-तब आप शिशु की गतिविधियों को महसूस करेंगे। शिशु भी इस प्रकार के खेल से आपके और भी करीब आएगा। इसके अलावा आप इसके जैसे कुछ अन्य खेलों को भी चुन सकती हैं।

Read: 5 चीज़े जिन्हें शिशु माँ के पेट में बिल्कुल पसंद नही करते हैं

#6. नृत्य (Dance)

गर्भावस्था में हल्का-फुल्का नृत्य करने से आप अपने शिशु और खुद के बीच में अच्छा बांड बना सकती हैं। जब आप अच्छा महसूस करके और खुश होकर नृत्य करेंगे आपका शिशु भी खुश होगा। यह मज़ेदार तरीका है शिशु से कनेक्ट होने का बस ध्यान रखें कि नृत्य करते समय इतने भी मस्त न हो जाएं कि भूल जाएं कि आप गर्भवती हैं। शिशु का पहले से ही एक निकनेम रख लें और उसे उसी निकनेम से बुलाएं इससे भी आपको शिशु से अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी।

#7. योग या ध्यान (Yoga or Meditation)

गर्भ में पल रहें शिशु के साथ कनेक्ट करने या फील करने (Tips to Feel Baby in the Womb) का सबसे आसान उपाय है योग। योग आपके शिशु को आराम प्रदान करेगा। अगर आप अपने शिशु के साथ अपनी बॉन्डिंग पर फोकस कर रही हैं तो योग और ध्यान से आप अपने शिशु के साथ आसानी से कनेक्शन बना सकती हैं। इस दौरान गहरी साँस लेना भी आपको अपने शिशु के करीब लाएगा। अगर आपने पहले योग नहीं किया है तब भी गर्भावस्था में योग करना अच्छा उपाय है। तीन से छः महीने का समय योग शुरू करने के लिए शानदार है। इससे न केवल आपको प्रसव में मदद मिलेगी बल्कि आपके शरीर और दिमाग को भी आराम मिलेगा। इससे आप अपने शिशु के और भी करीब पाएंगे।

#8. पौष्टिक और सुगंधित आहार (Nutritious and Aromatic diet)

गर्भावस्था के दौरान जो भी माँ खाती है, शिशु उसे अम्नीओटिक द्रव के रूप में ग्रहण करता है। तेज़ सुगंधित भोजन शिशु तक जल्दी पहुँच जाता है। अपने पसंद का सुगंधित आहार करना आपके और आपके शिशु के लिए शानदार साबित होगा। खाने या पीने की खूशबूदार चीजों का सेवन आपके और आपके बच्चे के बीच के रिश्ते को मजबूत करता है। आप जो भी खाना खाएं उसकी महक लें और जो आपको पसंद हो वही खाएं।

Read: 7 तरीके जिनसे आप अपने बच्चे को दे सकते हैं बेहतर गर्भ संस्कार

#9. स्नान (Bath)

लम्बे समय तक गुनगुने पानी में स्नान करना माँ को प्रसन्न और तनावमुक्त महसूस कराता है। इसके साथ ही आप नहाते समय अपने बच्चे पर खास ध्यान दे सकते हैं। बस ध्यान रखें कि पानी अधिक गर्म न हो क्योंकि गर्म पानी शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकता है। आप बाथ टब या शावर का प्रयोग कर सकती हैं, अपने आसपास कुछ मोमबत्तियां जला लें, इससे आप और सुकून महसूस करेंगी। बाथ टब है तो उसमें लेट कर लम्बी लम्बी सांस ले और अपने शिशु के बारे में सोचें। ऐसा कहा जाता है कि गर्भावस्था में पानी के सम्पर्क में रहने से समान्य प्रसव में भी आसानी होती है। इससे आपको शिशु की मूवमेंट भी महसूस होगी।

#10. आपकी प्रसन्नता और उत्साह (Be Happy and Enthusiastic)

गर्भ में शिशु अपनी माँ के मूड को महसूस कर सकता है इसलिए इस दौरान खुद को तनाव से दूर रखना बेहद जरूरी है। आपका दुखी होना शिशु को भी उदास कर सकता है। इसके साथ ही गर्भ में शिशु का वजन कम होना या समय से पहले प्रसव जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं। जब माँ खुश होती है, शिशु भी खुश होता है। आपके खुश और उत्साहित होने से आप अपने शिशु से अच्छे से कनेक्ट कर पाएंगे। इसलिए गर्भावस्था में सब कुछ भूल कर वो सब करें जिससे आपको खुशी मिलती है। इससे आप एक स्वस्थ, प्यारे और तंदुरूस्त शिशु को जन्म देंगी। गर्भावस्था के दौरान बच्चे को महसूस (Tips to Feel Baby in the Womb) करने के और भी तरीके होते हैं लेकिन इन सबमें से सबसे जरूरी होता है बच्चे के साथ बातें करना। यह एक चीज है जिससे आप अपने बच्चे के साथ बड़ी आसानी से कनेक्ट हो सकती हैं। कई बार गर्भ में पल रहे बच्चे आप गर्भावस्था से जिस नाम से पुकारती हैं उसी नाम से जन्म लेने के बाद भी बच्चा रिएक्ट करता है।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null