सर्दियों में बच्चों को नहलाते समय सावधानियां

सर्दियों में बच्चों को नहलाते समय सावधानियां

जब बात नहाने की आती है तो लगता है कितना आसान कार्य है, बस बाथरूम में गए और नहा लिए। परंतु यही नहाना जहां गर्मियों में अच्छा लगता है वही सर्दी में बहुत मुश्किल। जब बात छोटे बच्चों की हो तो यह काम और भी मुश्किल हो जाता है। छोटे बच्चों को तो नहलाना वैसे ही एक मुश्किल भरा काम होता है ऊपर से मौसम सर्दी का हो तो यह और भी मुश्किल काम हो जाता है क्योंकि छोटे बच्चों को नहलाते समय बहुत सारी बातों का ध्यान रखना पड़ता है। तो आइए जानते हैं बच्चों को नहलाते समय किन-किन सावधानियों का ध्यान (Tips for Bathing Kids During Winter) में रखना चाहिए।

 

गर्मियों के मौसम में तो बच्चे थोड़े आराम से और मजे से नहा लेते हैं क्योंकि वे भी नहाकर अपने आप को तरोताजा महसूस करते हैं। साथ ही नहाने के बाद उन्हें नींद भी अच्छी आती है। तरोताजा तो सर्दियों में भी नहाने के बाद लगता है क्योंकि नहाने के बाद शरीर हल्का सा लगने लगता है लेकिन सर्दियों में नहलाते समय बच्चों का और विशेष ध्यान रखना पड़ता है ताकि नहाते समय शिशु को हवा न लग जाए जिससे उन्हें खांसी जुखाम और बुखार भी हो सकता है।

 

बच्चों को सर्दियों में नहलाते समय रखी जाने वाली सावधानियां (Tips for Bathing Kids During Winter in Hindi)

बच्चे को नहलाने से पहले की तैयारियां (Preparations Before Bathing Kids During Winter)

कोई भी मौसम हो जब भी आप शिशु को नहलाने जाती हैं तो आप पहले से सब तैयारी जरूर कर लें ताकि बाद में आपको या आपके बच्चे को कोई दिक्कत ना हो। अगर आप पहले से ही सब तैयारी करके रखेंगी तो आपको नहलाने में और आपके बच्चों को नहाने में भी आनंद आएगा और आपके बच्चे को ठंड लगने का डर भी नहीं रहेगा।

Also Read: Home Remedies for Cough and Cold in Hindi 

#1. अगर आप बच्चों को नहलाने से पहले सारी चीजें एक जगह पर रख कर तैयार कर ले ताकि नहलाते समय आपको बीच में उठाना ना पड़े और ना ही बच्चों का इंतजार करना पड़े जैसे कि बच्चे के कपड़े, तौलिया, तेल, साबुन, पाउडर, डायपर आदि।

#2. जब आप बच्चों के लिए पानी तैयार कर रही हो तो पानी को ज्यादा गर्म तैयार ना करें क्योंकि शिशु की त्वचा ज्यादा कोमल होती हैं। इसके लिए आप अपनी कोहनी की त्वचा को पानी में डालकर उसका तापमान चेक करें।

#3. सर्दी के मौसम में बच्चों को एक दिन छोड़कर नहलाएं और जिस दिन ज्यादा ठंडी हवाएं चलती हो उस दिन नहलाने से बचे। उस दिन आप बच्चे को स्पंज स्नान कराएं। स्पंज स्नान का मतलब है शिशु को एक हल्के गर्म गीले स्पंज या कपड़े से सिर से लेकर पांव तक साफ करना। खासकर बच्चों की सिलवटें जैसे उसकी गर्दन, बाजू और पैरों का विशेष ध्यान रखें।

#4. जिस दिन आप बच्चों को नहलाती हैं तो इस बात का खासकर ध्यान रखें कि बच्चों के कपड़े पहले ही ना निकाल दे क्योंकि इससे उसे ठंड लग जाएगी। बल्कि सारी तैयारी करके व पानी की बाल्टी भरकर और फिर उसे बाथरूम में लेकर जाएं, फिर उसके कपड़े निकालें ताकि वह ठंड से बचा रहे।

#5. अगर ज्यादा सर्दी है तो आप कमरे में हीटर चालू कर दें ताकि जब बच्चा नहाकर आए तो उसे ठंडा नही लगे।

#6. नहलाने से आधा घंटा पहले शिशु की गुनगुने तेल से मालिश करें। जिस दिन ज्यादा सर्दी हो या सर्द हवा चलती हो उस दिन मालिश ना करें और बच्चे को ज्यादा देर तक बिना कपड़े के ना रखें।

#7. अगर आप बच्चे को बाथटब में नहलाना चाहती हैं तो वह भी पहले से तैयार कर ले और उसके लिए एक बाथ चेयर भी आती है। उस पर बच्चे को लेटा दें वरना बच्चे को अपने पैरों के ऊपर बैठा कर एक हाथ से पकड़ कर आराम से उसको धीरे-धीरे नहलाया जा सकता है।

Also Read: Food Chart for 18 Month Old Baby in Hindi

 

बच्चे को नहलाने का सही और सुरक्षित तरीका (Right and Safe Way to Give a Bath to Baby in Winters)

सबसे पहली बात आप बच्चों को कभी भी बाथरूम में अकेला ना छोड़ें, 1 सेकंड के लिए भी नहीं। सर्दियों में आप शिशु को सुबह के बजाय दोपहर में धूप में नाहलाएं तो ज्यादा बेहतर होगा।

#1. जब आप बच्चों को बाथरूम में लेकर जाती हैं तो सबसे पहले बाथरूम का दरवाजा बंद कर ले ताकि ठंड अंदर ना आए।

#2. फिर उसके कपड़े निकाल कर उसे बाथटब में बाथ चेयर के सहारे लिटाये और उसके सिर के नीचे अपना हाथ रखे।

#3. बच्चों को नहलाते समय कभी भी सीधा पानी मत डाले बल्कि बच्चों के शरीर और पानी के बीच में हाथ जरूर रखें।

#4. बच्चों को नहलाने की शुरुआत हमेशा पैरों से करनी चाहिए ना कि सिर से और फिर धीरे-धीरे मुलायम हाथों से पैरों से होते हुए पूरे शरीर पर साबुन लगाकर पानी से नहला दीजिए। बच्चे को हल्का सा उल्टा करके उसके पीठ पर भी साबुन लगा दीजिए।

#5. बच्चे के बाल और चेहरे को आराम से धोएं ताकि नहलाते समय कही बच्चे के कान या मुंह में पानी ना चला जाए।

#6. आप बच्चे को गर्मियों में रोजाना नहला सकती हैं परंतु सर्दी के मौसम में आप उसे एक दिन छोड़कर ही नहलाए।

#7. जब आप अपने बच्चे को नहला लेती हैं तो फटाफट आप बच्चे को तौलिए में लपेट कर हाथों से उसे पूछ ले और एक बात ध्यान रखें कभी भी बच्चे को जोर से नहीं रगड़ना चाहिए क्योंकि बच्चों की त्वचा बहुत सेंसिटिव होती है।

#8. सर्दी के मौसम में आप बच्चों के शरीर पर नहलाने के बाद मोस्चराइजर जरूर लगाएं ताकि उनका शरीर रुखा-रुखा ना लगे और साथ ही बच्चों को फटाफट कपड़े पहनाकर कंबल में लपेट लें।

#9. सर्दियों में बच्चों को नहाना पसंद नहीं आता इसलिए आप नहलाते समय बच्चों के साथ बातें करें। इसके लिए आप कोई गाना या भजन गाते रहे ताकि उसका ध्यान नहाने से हट जाए और वह नहाते वक्त रोए नहीं।

#10. अंत में बच्चे को अच्छे से कपड़े पहनाकर व कंबल में लपेट कर, उसे अपना दूध पिलाकर सुला दीजिए। फिर वह आराम से 4 से 5 घंटे  चैन की नींद सोएगा क्योंकि यह समय उसके लिए काफी आरामदेह और शांतिपूर्ण होता है।

Also Read: Soup Recipes for Kids in Hindi

 

सर्दियों में बच्चों को नहलाने का सही समय (Correct time for Bathing Kids During Winter)

वैसे तो ज्यादातर बच्चों को सुबह ही नहलाया जाता है परंतु सर्दी के मौसम में बच्चों को सुबह की बजाये आप उन्हें दोपहर के समय में नहलाये तो ज्यादा अच्छा रहेगा क्योंकि दोपहर के समय धूप निकल जाती है और बच्चे को ठंड लगने का डर कम हो जाता है। साथ ही इस समय नहाकर बच्चे अपने आपको ज्यादा रिलैक्स महसूस करते हैं और नहाने का आनंद भी लेते हैं।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null