छोटे बच्चों के डायपर बदलते समय बरतें यह सावधानियां

छोटे बच्चों के डायपर बदलते समय बरतें यह सावधानियां

शिशु के डायपर को बदलते समय आपको बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। अगर आप छोटे बच्चों की देखभाल में जरा सी भी लापरवाही कर देती है तो शिशु की त्वचा पर रैशेष हो जाते है जिसकी वजह से वह बहुत परेशान होगा और आपको भी करेगा। तो आइए जानते हैं बच्चों के डायपर बदलते समय किन-किन सावधानियों (Things to take care of Changing Diaper) का ख्याल रखना चाहिए।   बच्चों के डायपर समय पर बदलना क्यों जरूरी है? नवजात शिशु बहुत जल्दी डायपर गिला करते हैं जिसकी वजह से उनकी कोमल त्वचा पर संक्रमण हो सकता है। गिले डायपर की वजह से बच्चों को नींद भी नहीं आती और वे रोने लगते हैं। इसलिए आपको शिशु के डायपर बार-बार बदलने की जरूरत पड़ती है। अगर आप बच्चों का गिला डायपर समय पर और सही से नहीं बदलती है तो उनकी त्वचा इतनी कोमल और मुलायम होती है कि उनकी इस नाजुक त्वचा पर किसी भी चीज से जल्दी संक्रमण हो जाता है।  

बच्चों के डायपर बदलते समय इन सावधानियों का रखें ध्यान (Things to take care while chaging diaper of a baby)

#1. सारी चीजों को पास में रखें

आप जब भी शिशु का डायपर बदले तब आप डायपर के साथ-साथ अन्य समान भी जैसे कि रूई, गरम पानी, पावडर, तेल आदि सभी पास में रखें ताकि आपको बार-बार बच्चों को अकेला छोड़ कर भागदौड़ ना करनी पड़े। इसलिए पहले आप सारा सामान इकट्ठा कर ले फिर आप अपने शिशु का डायपर बदले ताकि आपको और आपके शिशु दोनों को कोई तकलीफ ना हो। इसे भी पढ़ेंः गर्भनाल की सफाई कैसे करें

#2. जगह साफ रखें

जब भी आप अपने बच्चे का डाइपर बदल ले तो एक बात का खास ध्यान रखें कि वह जगह प्लेन और साफ हो और उनके आसपास कोई ऐसा सामान ना हो जिससे उन्हें कोई नुकसान ना हो। अगर जगह टेढ़ी-मेढ़ी हो या फिर गंदी हो तो बच्चे को चोट भी लग सकती है और उन्हें गंदगी से संक्रमण भी हो सकता है। इसलिए बच्चों का डायपर बदलते समय इस बात का ध्यान रखें कि जगह सही और स्वच्छ हो।  

#3. डायपर सफेद और हल्के रंग के हो

एक मां को अपने बच्चे को हमेशा डायपर सफेद और हल्के रंग के ही पहनाने चाहिए क्योंकि गहरे और रंगीन डायपर बच्चों के लिए बहुत नुकसानदायक होते हैं। साथ ही डायपर को हमेशा बच्चों की पहुंच से दूर रखें ताकि बच्चे उन्हें उठाकर अपने मुंह में ना लें।  

#4. गंदा डायपर शिशु से दूर रखें

आप शिशु का डायपर बदलते समय इस बात का खास ध्यान रखें कि आप उसका गंदा डायपर हमेशा उनकी पहुंच से दूर ही रखें। इसके लिए आप शिशु के दोनों पैर ऊपर करें और एक हाथ से उसके गंदे डायपर को बाहर निकाले और उसे एक तरफ रख दे। इसके बाद नवजात की गंदी त्वचा की सफाई करते वक्त यह ध्यान रखें कि उसका सिर आगे से पीछे की तरफ हो। अगर आप गंदा डायपर निकालकर बिल्कुल शिशु के पास रख देती है तो आपका शिशु इसमें अपने हाथ भी गंदा कर सकता है। इसलिए आप गंदा डायपर बच्चे की पहुंच से दूर ही रखें ताकि वे उसमें हाथ पैर ना मार सके और उसमें से निकलने वाले गंदे कीटाणु और बदबू भी बच्चे से दूर रहे। इसे भी पढ़ेंः नवजात बच्चों की रुखी त्वचा को दूर करने के उपाय

#5. अच्छे से सफाई करें

जब भी आपका बच्चा डायपर को गंदा या गिला कर देता है तो आप उसका गंदा डायपर निकाल कर दूर रखें और फिर आप रुई और थोड़ा गुनगुना पानी लेकर नमी वाले भाग को अच्छी तरह से साफ करें। इसके बाद पानी को अच्छी तरह से सूखने दें। अगर आप बच्चे के नमी वाले भागों को और जांघों को अच्छी तरह साफ नहीं करती है तो वहां गंदगी की वजह से उन्हें संक्रमण होने का खतरा बना रहता है। इसलिए बच्चे के नीचे वाले भागों की अच्छी तरह सफाई करें।  

#6. थोड़ी देर खुला रखें

जब भी आप बच्चों का गंदा डायपर निकालती है तो आप सफाई करने के बाद कम से कम 10 मिनट तक उन्हें बिना डायपर के खुला रखे ताकि उनका शरीर पूरी तरह से सूख जाए और उन्हें किसी भी प्रकार का कोई संक्रमण ना हो।  

#7. डायपर बदलते समय बच्चों का ध्यान बँटाये

जब भी आप बच्चों का डायपर बदले तो आप उन्हें पहले खिलौने दे दे ताकि उनका ध्यान खिलौने में हो जाए और वह रोकर आपको परेशान ना करें। आप नवजात का डायपर बदलते समय अपना एक हाथ हमेशा उसके पेट पर रखें और डायपर को उनके शरीर पर थोड़ा ढीला ही पहनाये। अगर आप टाइपर को ज्यादा कसकर बांधती है तो आपके बच्चे की कोमल त्वचा पर निशान पड़ जाएंगे जिससे उन्हें दर्द होगा और वे रोने लगेंगे। इसलिए डायपर को थोड़ा ढीला ही रखें। इसे भी पढ़ेंः बच्चों में दस्त दूर करने के उपाय   क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null