छोटे बच्चे के साथ कैसे संभाले घर और ऑफिस के काम

छोटे बच्चे के साथ कैसे संभाले घर और ऑफिस के काम

जब एक महिला मां बनती है तो उनकी प्राथमिकता और जिम्मेदारीयां बढ़ जाती हैं। कामकाजी महिलाओं के लिए तो बच्चे के साथ इस सब कामों को बैलेंस करना बहुत मुश्किल हो जाता है। उस समय महिला के लिए घर और ऑफिस के साथ-साथ अपने छोटे बच्चे को भी संभालना होता हैं क्योंकि वे हर बात के लिए पूरी तरह से अपनी मां पर ही निर्भर करते है। तो आइए जानते हैं कुछ ऐसे टिप्स (Tips to Manage Work and Home with Kids) जिन्हें अपना कर आप अपनी मुश्किल को आसान कर सकती हैं।

छोटे बच्चे के साथ ऑफिस और घर के कामों को संभालने के लिए टिप्स (Tips to Manage Work and Home with Kids in Hindi)

#1. बच्चों और बाकी कामों में तालमेल बनाकर रखें (Make Balance Between Work and Baby)

आप चाहे घरेलू औरत हो या कामकाजी आप बस बच्चों और कामों के बीच में तालमेल बनाने की पूरी प्लैनिंग कर के चले और साथ ही अपना एक रूटीन भी फिक्स कर ले ताकि आपको और और बच्चे को कोई दिक्कत ना हो। अगर आप सारे काम समय अनुसार करेगी तो आप जल्दी ही अपना काम खत्म करके अपने बच्चों को पूरा समय दे पाएंगी। Also Read: How to Teach Importance of Nature to Kids

#2. अपने आप को दोषी ना समझे (Don’t blame yourself)

अगर आप कामकाजी महिला है और पूरा टाइम टेबल बनाकर चलती है और फिर भी अगर किसी काम में कोई ढिलाई हो जाए तो कभी नकारात्मक ना सोचें और ना ही अपने आप को दोष दे। यह सोचने की बजाये यह सोचे कि गलती कहां हुई है और आगे से वह गलती दोबारा ना हो ऐसा प्रयास करें।  

#3. बच्चों की अलमारी अलग रखें (Keep Separate Almirah for Baby)

आप अपने बच्चे का सारा सामान एक अलग अलमारी में रखें। इससे आपका काफी समय बच जाएगा और आपको उनका कोई भी सामान अलग से ढूंढना नहीं पड़ेगा। आप बच्चों के सामान की एक लिस्ट भी बना ले और उसको एक फिक्स जगह पर ही रखें।
 

#4. अपने पार्टनर की मदद ले (Take Help from Partner)

अगर आपका बच्चा बहुत छोटा है तो आप छोटे-छोटे कार्यों में अपने पार्टनर की मदद ले सकती हैं। यह छोटी-छोटी सहायता ही आपके लिए काफी मददगार होगी और आपके पार्टनर को भी आपको और अच्छे से समझने का मौका मिलेगा। Also Read: How to Develop Self Respect in Kids  

#5. बच्चों के लिए एक मेड रखें (Hire a Nanny)

बच्चों का ध्यान रखने के लिए आप एक मेड की भी मदद ले सकती हैं। आप अपनी मेड को अच्छे से समझा दें कि बच्चे को कब और क्या खिलाना है। अगर बच्चे को दवा देनी है तो कौन-कौन सी और कब देनी है यह भी समझा दे।  

#6. कुछ काम रात को ही करें (Do Some Work at Night)

हर महिला के लिए सुबह का माहौल भागदौड़ का होता है वह चाहे कितना भी जल्दी कर ले परंतु फिर भी उसे सुपर वुमन बनना ही पड़ता है लेकिन फिर भी समय की कमी रहती है। इसलिए इस समय की कमी को पूरा करने के लिए आप कुछ काम रात को ही करके छोड़ सकती है। जैसे कि सुबह बनाने वाली सब्जियों को रात में ही काट कर छोड़ दे, रात को ही ड्रेस निकाल कर रख दे और मोबाइल चार्ज कर ले। इन छोटे-छोटे कामों से आपका बहुत समय बच जाएगा। Also Read: Tips to Travel with Kids in Hindi

#7. अपने पार्टनर के साथ अच्छी ट्यूनिंग रखें (Make Healthy Relationship With Partner)

एक महिला घर और ऑफिस के साथ अपने बच्चों के कामों में बैलेंस तभी रख पाती है जब आपकी और आपके पार्टनर की अच्छी अंडरस्टैंडिंग हो। उसके लिए आप दोनों को आपस में और वक्त बिताना चाहिए। महीने में 2-3 बार आप अपने पति व बच्चे के साथ घूमने जरुर जाए।  

#8. व्यवहार अच्छा रखें (Have Good Behaviour)

घर और ऑफिस में सब के साथ अच्छा व्यवहार रखें। अगर ऑफिस के लोगों के साथ आपके रिलेशन अच्छे हैं तो आप अपने आप को हल्का महसूस करेंगी। कई बार जरूरत पड़ने पर आपके साथ काम करने वाले ही आपके सबसे बड़े सपोर्ट सिस्टम बन सकते हैं।   #9. छुट्टी का सदुपयोग करें (Utilize Holiday) जो महिला कामकाजी होती है वह घर में कम समय दे पाती हैं। इसलिए छुट्टी वाले दिन अपने परिवार के साथ कहीं बाहर जाने का प्रोग्राम बनाएं। इससे आपके और आपके परिवार के बीच की समझ और बढ़ेगी और दूरियां भी कम होंगी।  

#10. नई तकनीक का प्रयोग करें (Use Techniques)

आज का युग नई-नई तकनीकों का युग है। आप अपने कामों मे अपनी मदद के लिए बाजार में कई तरह के मिलने वाली तकनीक का फायदा ले सकती हैं जिसकी मदद से आप अपने काम फटाफट निपटा कर अपना ज्यादा से ज्यादा समय अपने बच्चे को दे सकती हैं।     बच्चा होने के बाद हर महिला की बतौर मां प्राथमिकताएं बदल जाती हैं। आप जो भी काम करें उसे पूरी प्लैनिंग के साथ अच्छे तरीके से ही करें जिससे आपके बच्चे पर उसका प्रभाव अच्छा पड़े। कोई भी काम अगर प्लानिंग के साथ किया जाए तो वह सबके लिए अच्छा माना जाता है और कामकाजी महिलाओं के लिए तो आवश्यक है कि वे अपने सारे काम पूरी प्लानिंग के साथ करें। आप अपने आपको कामों के प्रति निष्ठावान रखें और बेवजह की चिंता और फिक्र से दूर रहने की कोशिश करें। Also Read: Brain Development Tips For Kids in Hindi क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null