माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलू उपाय

माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलू उपाय

माँ का पहला पीला दूध बच्चे के लिए बहुत ही आवश्यक है क्योंकि ये अमृत की तरह कई प्रकार की बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। माँ के दूध से बच्चे को विटामिन, प्रोटीन और फैट जैसे पोषक तत्व मिलते हैं और साथ ही उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं जिससे उन्हे बैक्टीरिया और वाइरस से लड़ने में काफी मदद मिलती है। हर माँ को स्तनपान 6 महीने तक तो कराना ही चाहिए और अगर हो सके तो आप अपने बच्चे को स्तनपान 2 साल तक भी करा सकती है। पर अगर यही माँ का दूध (Maa ka dudh kam hona) बच्चे को पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलता हैं तो उन्हे कई परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं। आइयें आज जानते हैं कि मां का दूध बढ़ाने के कुछ घरेलू उपाय (Tips to Increase Breastmilk in Hindi)

मां का दूध कम होने के कारण (Reason for Low Breastmilk in Hindi)

माँ के दूध (Maa ka Dudh) में कमी होने के बहुत से कारण हो सकते है जैसे कि:

  • अधिक दवाइयो का सेवन,
  • हॉरमोन में बदलाव,
  • बच्चे का अच्छे से दूध न पीना,
  • कमजोर या बीमार होने पर,
  • गलत खानपान
  • तनाव

इसके लिए जरूरी हैं कि आप अपने खान-पान को सुधारे और अधिक मात्रा में पोषक तत्व युक्त भोजन करे। इसके अलावा आप कुछ घरेलू उपाय (Maa ka dudh badhane ke gharelu upay) भी अपना सकती हैं जिससे माँ का दूध बढ़ाया जा सके।

इसे भी पढ़ें: पीरियड्स के दर्द को कम करने के 5 असरदार उपाय

माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलू नुस्खे और उपाय (Tips to Increase Breastmilk in Hindi)

#1. मेथी की चाय या पानी

माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: almrahonline.com

दूध की कमी को पूरा करने के लिए ये सबसे पुराना और असरदार उपाय हैं जो कि प्रसव के बाद सभी महिलाओ को दिया जाता हैं। मेथी में ओमेगा 3, आइरन, कैल्शियम और फेटी एसिड के गुण होते हैं जिससे बच्चे का दिमाग तेज होता है और उन्हे कई बीमारियो से लड़ने में मदद मिलती हैं। इस उपाय को करने के लिए आपको एक बड़ा चम्मच मेथी के दाने को 1 कप पानी में रात भर भिगो के रखना हैं और दूसरे दिन सुबह इस पानी को 5 से 7 मिनट के लिए उबालना हैं और इसे छान कर चाय की तरह पीने से दूध में बढ़ोतरी आती हैं और बच्चे और माँ के लिए भी लाभकारी हैं। आप अपने आहार में मेथी का साग भी शामिल कर सकती हैं जिससे आपके बच्चे को पर्याप्त मात्रा में दूध मिलता रहे।

#2. सौंफ

माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: haatmarket.com

सौंफ भी दूध की कमी को पूरा करने के लिए नई माँओ को दिया जाता हैं। इससे बच्चो को पेट की परेशानी और गैस से दूर रखने में मदद मिलती है और इतना ही नहीं, उनकी पाचन शक्ती भी मजबूत होती हैं। इसे आप चाय की तरह भी पी सकती हैं। बस आपको इसे बनाने के लिए एक कप गरम पानी में आधा घंटा के लिए सौंफ को रखे और दिन में दो बार पिये, जिससे आपको माँ का दूध बढ़ाने में मदद मिलेगी।

#3. मेवा

माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: stuff.co.nz

मेवा यानि ड्राइ फ्रूट्स में भरपूर मात्रा में विटामिन, मिनरल और प्रोटीन जैसे पोषक तत्व होते हैं जिससे माँ के दूध को बढ़ाने में मदद मिलती हैं। आप रोज दिन में बादाम, अखरोट, काजू और पिस्ता का सेवन करे, जिससे माँ के शरीर की कमजोरी दूर करने में मदद मिलेगी व साथ ही बच्चे का दिमाग तेज होगा। आप मेवा को कच्चा ही खाये तो ज्यादा लाभ होगा। अगर आपको ऐसे खाना पसंद नहीं है तो आप इसका मिल्क शेक बना कर भी पी सकती हैं। इसका उपयोग एक सीमित मात्रा में करना चाहिए क्योंकि कोई भी चीज जरूरत से ज्यादा सेवन करने से फायदा नहीं बल्कि नुकसान ही होता हैं।

इसे भी पढ़ें:  डिलीवरी के बाद खिंचाव के निशान हटाने के 10 घरेलु नुस्खे

#4. लहसुन

माँ का दूध बढ़ाने के 5 असरदार घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: Hovid Online Store

लहसुन खाने से भी माँ के दूध की आपूर्ति को बढ़ाया जा सकता है क्योंकि एक अध्ययन में पाया गया हैं कि जिन माँओ ने लहसुन खाया हैं उनके बच्चे ज्यादा समय तक स्तनपान करते हैं। लहसुन में रोगाणुरोधी गुण होते है जो माँ और बच्चे दोनों की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाते हैं। कच्‍चा लहसुन खाने से अधिक लाभ होता हैं, लेकिन अगर आपको इसकी महक और स्वाद के चलते इसे खाने में परेशानी होती हैं, तो आप इसे कोई भी सब्‍जी, दाल या चटनी में डाल कर उपयोग कर सकती हैं। आप अपने खाने में इसे रोज़ शामिल भी कर सकती है। पर याद रहे ज्यादा लहसुन का सेवन न करे नहीं तो हो सकता है आपके बच्चे के पेट में दर्द हो जाए। इसलिए इसे सीमित मात्रा में ही खाये।

#5. तिल, सौठ और गोंध के लड्डू

डेलीवेरी के बाद हमारे बड़े हमे बहुत प्यार से तिल के लड्डू खिलाते है जो की स्वाद में थोड़ी करवी तो होती है पर बहुत फायदेमंद होती हैं। इससे माँ के दूध में भी बढ़ोतरी होती है। इस लड्डू में भरपूर मात्रा में केल्शियम और कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं जो की माँ और बच्चे के स्वास्थ्य एवं शारीरक विकास के लिए बहुत ही जरूरी हैं। माना जाता हैं कि इस लड्डू को खाने से महिला को दर्द में आराम मिलता हैं और रक्त प्रवाह सही से होता हैं। इस लड्डू में तिल, सौठ और गोंद के अलावा घी, अदरक, जीरा, शतावरी, अजवाइन और मेवे भी दिये जाते है। इसे आपको रोज खाना चाहिए, चाहे आपको इसका स्वाद पसंद हो या नहीं।

इसे भी पढ़ें:  मैं से माँ तक का सफर- कितना मुश्किल कितना आसान

इन सब के अलावा आपको कुछ और उपाय अपनाने की जरूरत है जैसे कि:

  • आपको अपने खानपान में सुधार करने की आवश्यकता हैं।
  • हरी पत्तेदार सब्जियों को अपने आहार में शामिल करे।
  • अपने मन को शांत रखे और तनाव से भरे हुए माहोल से दूर रहे।
  • अपने आहार में दाल को जोड़े जिससे आपको प्रोटीन मिलता रहे।
  • बच्चे के साथ सोये। कोशिश करें की आपके और बच्चे के शरीर का सीधा संपर्क हो जिससे दूध ज्यादा बनेगा।
  • स्तनपान कराते समय स्तनों को बदलती रहें जिससे बच्चे को दूध पीने में आसानी हो।
  • आप ब्रेस्ट पम्प का भी प्रयोग कर सकती हैं।
  • स्तनपान कराते समय खास ध्यान रखे कि आपका बच्चा सही से दूध पी पा रहा है या नहीं।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null