बच्चों की स्मरण शक्ति व याददाश्त बढ़ाने के 13 मुख्य उपाय

बच्चों की स्मरण शक्ति व याददाश्त बढ़ाने के 13 मुख्य उपाय

माता-पिता होने के नाते आपको हमेशा यह चिंता रहती होगी कि अपने बच्चों की सीखने की क्षमता में विकास कैसे हो? हर मां-बाप यह चाहते हैं कि उनके बच्चे अपने जीवन में सफलता की महान ऊंचाइयों को छुए। यदि आपके बच्चे की स्मरण शक्ति कम है तो आपकी परेशानी बढ़ जाती है परंतु इस समस्या से आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि हम आपको बताने जा रहे हैं कि आप किस प्रकार अपने बच्चों की स्मरण शक्ति (Memory Power) को बढ़ा सकते हैं।

 

बच्चों की स्मरण शक्ति व याददाश्त बढ़ाने के उपाय (Tips to Increase Child Memory Power in Hindi)

बच्चों की स्मरण शक्ति (Brain Power or Memory Power) को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि उनके मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को प्रोत्साहित किया जाए और कई ऐसे आसान घरेलू उपाय (Dimag Tej Karne ke Gharelu Upay) हैं जिन्हें आप अपना कर अपने बच्चे के मस्तिष्क की कार्य प्रणाली को बेहतर बना सकती हैं। जो इस प्रकार है:

 

#1. पौष्टिक आहार (Nutritious Food)

जिन बच्चों की स्मरण शक्ति कम होती है तो वे एक ही बात को याद करके चिड़चिड़ा से होने लगते हैं जिसकी वजह से वे पढ़ाई से भी जी चुराने लगते हैं। आप अपने बच्चों की स्मरण शक्ति (Memory Power) बढ़ाने के लिए उन्हें पोष्टिक आहार दें जिससे उनका मस्तिष्क के स्वास्थ्य का स्तर बढ़ेगा। यदि आप बच्चों को पौष्टिक आहार की जगह उन्हें जंक फूड आदि ज्यादा देती है तो उनका मानसिक फिटनेस का स्तर कम हो जाएगा क्योंकि एक इंसान के मस्तिष्क को काफी ऊर्जा की जरूरत होती है। मस्तिष्क प्रतिदिन शरीर की कुल ऊर्जा के खपत के 20% का उपयोग करता है।

बच्चों को ऐसे भोजन दें जिसमें ओमेगा 3, विटामिन बी, विटामिन बी 12 फोलेट की मात्रा ज्यादा प्राप्त हो। इससे बच्चों का दिमाग तेज व स्मरण शक्ति भी बढ़ेगी। आप बच्चों को लौह युक्त खाद्य पदार्थ भी भरपूर मात्रा में दें। यह भी स्मरण शक्ति के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

इसे भी पढ़ेंः बच्चों की नजर तेज करने के लिए 10 मुख्य आहार

#2. फल और सब्जियां (Fruits and Vegetables)

आप अपने बच्चों को सुबह नाश्ते में अच्छी तरह से फल और सब्जियां खिलाएं। सुबह के समय इनका सेवन करने से उनको पूरा दिन फायदा मिलेगा। उनके मस्तिष्क की कोशिकाओं को ऑक्सीजन की एक अच्छी आपूर्ति की आवश्यकता होती है जो ताजा फल और सब्जियां से भरपूर मात्रा में मिल सकती है जैसे कि संतरे का जूस, ब्रोकली, पालक, बींस आदि। कुछ उदहारण इस प्रकार हैं:

 

  • आंवला: रोजाना सुबह आंवले का मुरब्बा खाने से स्मरण शक्ति बढ़ती है। जिन बच्चों की स्मरण शक्ति कमजोर होती या जो याद करके बार-बार भूल जाते हैं उनके लिए आंवले के मुरब्बे का सेवन बहुत ही लाभदायक माना गया है।
  • सेब: सेब में स्मरण शक्ति बढ़ाने की आश्चर्यजनक क्षमता पाई गई है। खाना खाने से पहले सेब को बिना छीले चबा चबा कर खाने से स्मरण शक्ति तेजी से बढ़ती है।
  • लीची: अगर आप अपने बच्चों को कई दिनों तक रोजाना लीची खाने को देती है तो इससे आपके बच्चों की मस्तिष्क की कमजोरियां दूर होंगी और स्मरण शक्ति भी बढ़ेगी।
  • पालक: पालक को तो गुणों का भंडार माना जाता है और यह हमारे शरीर को सभी तरह से मजबूत बनाती है। यह खून बढ़ाने के साथ-साथ मानसिक शक्ति को मजबूत बनाती है। इसलिए आप रोजाना अपने बच्चे को पालक का किसी न किसी रूप में सेवन जरूर करवाएं।

 

#3. दूध और दही (Milk and Curd)

दूध और दही का सेवन सभी उम्र के लिए बहुत लाभदायक होता है। बच्चों की स्मरण शक्ति तेज करने के लिए आप उन्हें रोजाना दूध पिलाएं और आप उनके दूध में शहद भी मिला सकती हैं। बच्चों को तनाव से दूर रखने के लिए आप उनके दोपहर के आहार में दही को अवश्य शामिल करें। इसका सेवन करने से बच्चे तनाव मुक्त रहेंगे और उनकी स्मरण शक्ति तेज गति से बढ़ेगी।

 

#4. मेवे (Dry Fruits)

ड्राई फ्रूट्स भी आपके बच्चों के दिमाग को तेज करने (Sharp Memory Power) में और उनकी शक्ति को बढ़ाने में बहुत सहायक होते हैं जैसे कि बादाम, पिस्ता, अखरोट आदि।

 

  • बादाम: रात को गिलास में बादाम को भिगोकर रख दे और सुबह इन्हें पीस लें और इसको दो चम्मच शहद और एक गिलास में दूध मिलाकर बच्चों को पिलाने से स्मरण शक्ति तेजी से बढ़ती है।
  • पिस्ता: पिस्ता का सेवन करने से स्मरण शक्ति तेज होने के साथ-साथ यह हृदय को भी मजबूत बनाता है। इसलिए जिन बच्चों को स्मरण शक्ति थोड़ी कम हो तो उन्हें पिस्ते का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • अखरोट: अखरोट की बनावट बिल्कुल मस्तिष्क जैसी होती है और इसमें मस्तिष्क से संबंधित सभी रोगों को दूर करने की क्षमता पाई जाती है। अखरोट का सेवन भी काफी लाभदायक होता है।

 

#5. देसी घी से मालिश (Massage from Desi Ghee)

बच्चों की शक्ति को बढ़ाने के लिए आप उनके सिर पर गाय के घी से अच्छे से मालिश करें। सिर पर मालिश करने से बच्चे को आराम मिलता है और दिमाग की कोशिकाओं को अच्छे से काम करने में मदद मिलती है और रक्त भरता है जिससे दिमाग की कोशिकाए तेज होती है।

इसे भी पढ़ेंः बच्चों में दिमागी शक्ति को बढ़ाने के लिए 10 मुख्य आहार

#6. सौंफ (Fenugreek)

सौंफ स्मरण शक्ति को बढ़ाने का एक सरल और उत्तम उपाय हैं और यह मस्तिष्क को भी ठंडा रखती है। इसके लिए आप पहले सौंफ को हल्के हाथ से कूट कर इसका छिलका उतार दें। फिर इसके बाद उसमें समान मात्रा में मिश्री मिलाकर पीस लें। इसे सुबह एक चम्मच गर्म दूध के साथ अपने बच्चे को खिलाएं, बहुत फायदा मिलेगा।

 

#7. पानी पिलाएं (Give water)

स्मरण शक्ति को बढ़ाने में पानी का काफी योगदान होता है क्योंकि मानव मस्तिष्क में लगभग 75% पानी होता है। इसलिए उनकी कार्य क्षमता अच्छी मात्रा में पानी पीने पर निर्भर करती है। पानी मस्तिष्क को सभी कार्य को करने के लिए ऊर्जा प्रदान करता है। अगर शरीर में पानी की कमी हो जाए तो कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं जैसे कि ध्यान ना लगना, स्मरण शक्ति कम हो जाना, मस्तिष्क में थकान होना, सिर दर्द होना, गुस्सा आना आदि। साथ ही यह मस्तिष्क और तंत्रिका की गतिविधियों को भी प्रभावित करता है। इसलिए आप बच्चों को खूब पानी पिलाए इससे उनके मस्तिष्क में रक्त कोशिकाओं से संबंधित बीमारियों जिनकी वजह से स्मरण शक्ति खराब होती है, होने की संभावना कम हो जाती है।

 

#8. दिमागी खेल (Mental games)

बचपन में खेले जाने वाले अतरंगी खेल भी बच्चों की स्मरण शक्ति को बढ़ाते हैं जैसे कि बच्चों के लिए बहुरंगी वस्तुओं के साथ खेलना और उसे छुपाने का प्रयास करें और बाद में बच्चों से पूछे कि क्या गायब है। बच्चों के साथ शतरंज, पहेलियां, गिनती के खेल मस्तिष्क की शक्ति को प्रभावी ढंग से बढ़ाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा आप बच्चों को खेलने कूदने या कोई और गतिविधियां करने का पूरा मौका दें। छोटे बच्चों के साथ आप दिमागी खेल भी खेले। यह भी एक ऐसा उपाय है जो बच्चों का दिमाग तेज और स्मरण शक्ति को बढ़ाने में कारगर होता है। दिमागी खेलों से बच्चों के दिमाग की एक्सरसाइज हो जाती है और बच्चों का दिमाग का विकास अच्छे से होता है। इसलिए आप कम से कम रोजाना आधा घंटा उन्हें जरूर दें। आप बाजार से भी कोई ऐसे खिलौने लाकर दे सकती है जिससे बच्चा का दिमाग बहुत एक्टिव और तेज बना रहे।

 

#9. संगीत (Music)

संगीत स्मरण शक्ति को बढ़ाने का एक शक्तिशाली साधन हो सकता है। आपने देखा होगा कि जो बच्चे साधारण सी बात भी याद नही रख पाते हैं लेकिन वही नर्सरी की धुनों को याद रख लेते हैं क्योंकि संगीत किसी भी चीज को अपहरण कर लेने या मन में ग्रहण कर लेने की शक्ति को बढ़ा देता है। इसके अलावा कहानियों पर भी यही बात लागू होती है। आप अपने बच्चे को पहले खुद कहानी पढ़कर सुनाएं फिर उसे सुनाने के लिए कहें या आप कहानी की कुछ लाइने बोल कर अगली उसे बोलने के लिए कहें। आप अपने बच्चों को कुछ भी पढ़ने के बाद उसे संक्षेप में प्रस्तुत करने की आदत डालें। जैसे मान लो आपके बच्चे ने एक अध्याय पूरा पढ़ लिया तो आप उसे कहे कि वह अध्याय के मुख्य बिंदुओं को याद रखें और उन्हें अंकित कर ले। यह प्रक्रिया स्मरण शक्ति बढ़ाने के साथ-साथ धीरे-धीरे उसके जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी कारगर साबित होगी।

#10. उनसे मदद मांगे (Take help)

आप अपने रोजाना के कामों में अपने बच्चों को भी शामिल करें जैसे कि अगर आप कोई डिश तैयार कर रही हैं तो आप उनसे पूछें कि अब क्या डालना है या आप उसकी पसंद की कोई चीज बना रही है तो भी आप उससे पूछ सकते हैं। आप उससे छोटे-छोटे काम जैसे कि किसी को रुपए देने हैं तो थोड़े बहुत रूपए उसे दे ताकि वह खुद गिन सके। आप आप उसे ढेर सारी शाबाशी दे। आप उसे दिनभर की गतिविधियों के बारे में भी पूछे जैसे कि स्कूल में क्या हुआ, उसने क्या खाया, कौन-कौन से खेल खेले और उसने क्या-क्या किया, किस-किस के साथ खेला इत्यादि। इस तरह के सवाल पूछने पर भी बच्चों में चीजों को याद रखने और उनका निरीक्षण करने की प्रेरणा मिलती है।

 

#11. दूसरों को ध्यान से सुनना (Listen others carefully)

अपने बच्चों को अच्छा श्रोता भी बनाए। आप उन्हें बताएं कि वह दूसरों की बात ध्यान पूर्वक सुने और किसी भी बातचीत के दौरान वे पूरी तरह से चौकस रहे। इसके अलावा बच्चों को यह भी बताएं कि वे अपना ज्ञान दूसरों के साथ साझा करें। इससे आपकी उनसे मित्रता भी होगी और साथ में उनके समझ के स्तर का विकास भी होगा।

 

#12. मानसिक नोट बना ले (Mental notes)

जब भी आपका बच्चा कोई कार्य करता है तो उसे कहिए कि वह अपने मस्तिष्क में उस गतिविधि को ध्यान से अंकित कर ले जैसे कि अगर आपका बच्चा कुछ लिख रहा हो तो आप उसे कहिये कि वह धीरे-धीरे या जोर से कहें कि मैं इस विषय पर लिख रहा हूं। यह उपाय किसी भी महत्वपूर्ण कार्य या फिर रोजमर्रा के कार्य के लिए भी काम कर सकता है और इससे उन्हें यह याद रखने में भी मदद मिलती है कि उन्होंने अपना कार्य पूरा किया है या नहीं।

 

#13. पूर्ण आराम (Full rest)

सोना और आराम करना शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए, कम महत्वपूर्ण बातों को दिमाग से निकालने के लिए और जरूरी बातों को दिमाग में टिकाए रखने के लिए बहुत ही जरूरी है। इसलिए आप यह सुनिश्चित कर लें कि आपका बच्चा पर्याप्त नींद ले। उसे रोज एक नीयत समय खाना खाने और निश्चित समय पर सुबह जल्दी उठने की आदत होनी चाहिए। आप यह भी सुनिश्चित करें कि वह समय पर सोने और जागने की प्रक्रिया का रोज पालन करें।

इसे भी पढ़ेंः 10 खिलौने जो आपके बच्चे की दिमागी क्षमता को बढ़ाते हैं

स्मरण शक्ति को बढ़ाने के घरेलू उपाय (Home Remedies to Increase Kids Memory Power in Hindi)

  • कुछ काली मिर्च को पीसकर उसका पाउडर बना ले। फिर उस पाउडर में आप मक्खन और मिश्री मिलाकर बच्चे को खिलाएं।
  • बच्चों को डार्क चॉकलेट खिलाये। इससे भी स्मरण शक्ति बढ़ती है।
  • रात को उड़द की दाल की दो से तीन चम्मच भिगोकर रख दें और सुबह उसे पीसकर पेस्ट बना लें। फिर इस पेस्ट को दूध में मिलाकर और साथ में मिश्री मिलाकर इसका सेवन करवाएं।
  • तिल को गुड़ के साथ मिलाकर सेवन करने से भी बच्चे की स्मरण शक्ति तेज होती है।
  • गुलकंद का सेवन बच्चों को दिन में दो से तीन बार करवाएं।
  • एक चम्मच शहद में एक चुटकी दालचीनी का पाउडर मिलाकर बच्चों को खिलाये। इससे भी काफी फायदा मिलेगा।
  • गाजर का सेवन करने से भी बच्चों की स्मरण शक्ति तेज गति से बढ़ती है और उन्हें अन्य फायदे भी होते है।
  • जीरा, अदरक और मिश्री को बराबर मात्रा में पीसकर पेस्ट बना लें और दिन में दो बार आधा-आधा चम्मच बच्चों को दें। इससे भी बच्चों की स्मरण शक्ति तेज होगी।
  • बच्चों को रोजाना सभी मिनरल्स युक्त आहार का सेवन करवाएं।
  • बच्चों को भरपूर नींद लेने दें ताकि उनके दिमाग को पूर्ण आराम मिले। इससे भी बच्चों की दिमागी शक्ति को बढ़ावा मिलेगा।

 

अंत में मैं यही कहूंगी कि आप बच्चों की क्षमता पर विश्वास रखें। यह भी याद रखें कि हर बच्चा दूसरे से अलग होता है। इसलिए उसकी तुलना दूसरे बच्चों से ना करें। अपने बच्चे के गुणों को पहचाने और ऊपर बताए गए उपायों का इस्तेमाल से अपने बच्चों की स्मरण शक्ति को तेज करें। इसके साथ-साथ बच्चों को खेलने कूदने का भी पूरा अवसर देना चाहिए जिससे उनका दिमाग फ्रेश होगा। उनके दिमाग पर ज्यादा दबाव नहीं देना चाहिए क्योंकि किसी भी चीज को लेकर कई बार बच्चे मानसिक रूप से तनाव में आ जाते हैं।

इसे भी पढ़ेंः बच्चों को सब्जियां खिलाने के 6 टिप्स

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null