अब घर पर ही बनाइये सेरेलक और जानिए उसके फायदे

अब घर पर ही बनाइये सेरेलक और जानिए उसके फायदे

हालांकि इस बात में कोई शक नहीं है कि एक निश्चित अवधि तक शिशुओं के लिए स्तनपान से बेहतर कुछ भी नहीं होता। फिर भी एक समय के बाद शिशु के विकास को ध्यान में रखते हुए उसे अर्ध ठोस या ठोस आहार देना अनिवार्य होता है। ऐसे में आहार देने की प्रक्रिया की शुरुआत सेरेलक जैसे आहार से की जा सकती है। तो चलिए आज सेरेलक बनाने की विधि (Cerelac Recipe in Hindi) और इसके फायदे जानें।

 

आज-कल के भागदौड़ वाली जिंदगी में हमें हर चीज पैकेट में चाहिए। यह बात सच है कि आज बाजार में सब कुछ मिल जाता हैं। इससे हमारी तेज रफ्तार जिंदगी को बहुत सहुलियत मिल गई है। मगर जब बात बच्चों की आती है तो उनके स्वास्थ्य से समझौता नहीं किया जा सकता है।आजकल शिशु के आहार में सेरेलक का बहुत चलन हो गया है। इससे सब काम बड़ा आसान हो गया है। बस ढक्कन खोला 4 चम्मच कटोरी में सेरेलक डाला, थोड़ा दूध या पानी मिलाया, हल्का सा पकाया और बस तैयार हो गया बच्चों का झटपट शिशु आहार। मगर जरुरी नहीं है कि हर वो चीज़ जो आसानी से मिल जाए वह पौष्टिक भी हो| इसलिए हम आज आपको घर पर ही सेरेलक बनाने की विधि (Cerelac Recipe in Hindi) बताएंगे। ये एक स्वादिष्ट और पूर्ण पौष्टिक शिशु आहार होगा।

इसे भी पढ़ें: मां का पहला दूध क्यों है जरूरी 

 

सेरेलक बनाने की विधि और रेसिपी (Cerelac Recipe in Hindi)

सामग्री:

  • एक कप रागी
  • एक कप बाजरा
  • एक कप गेहूं
  • एक कप मकई (छोटी)
  • एक कप मकई (बड़ी)
  • एक कप ब्राउन राइस
  • एक कप मूंग दाल
  • एक कप चना दाल
  • एक भुना चना
  • 1/2 कप काजु
  • 1/2 कप बादाम
  • 10 इलायची के दाने

विधि (Cerelac Banane ki Vidhi) :

#1. बादाम व काजू को छोड़कर सभी सामग्रियों को रात भर पानी में भिगो के छोड़ दे।
#2. अगले दिन पानी को निकाल दे और उन्हें अच्छी तरह सूखने के लिए धूप में फैला दें।
#3. सूख जाने पर इन्हें कड़ाही में हल्का भुन लें|
#4. अंत में बादाम, काजू, इलायची व भुनी हुई सारी सामग्री को मिक्सी में पीस लें|
#5. अच्छी तरह पीसकर इसे एयरटाइट डिब्बे में रख लें।

इसे भी पढ़ें: बच्चों को गाय का दूध देने के 10 फायदे

कैसे दे

#1. एक कड़ाही को मध्यम आंच पर गैस पे रखें।
#2. इसमें दो बड़े चम्मच घर पर बना हुआ सेरेलक डालें और हल्का सा भून लें।
#3. उसमें एक गिलास पानी डालें और मध्यम आंच पर पकने दे।
#4. अब उसे दलिया की तरह पकाए।
#5. हो गया आपका सेरेलक तैयार|

घर पर बने सेरेलक के फायदे (Benefits of Cerelac for Kids in Hindi)

#1. यह घर का बना हुआ सेरेलक हैं तो इसमें सामग्री की गुणवत्ता की गारंटी है और आप अपने बच्चे की पसंद के अनुसार रेसिपी में सामग्री का अनुपात समायोजित कर सकती हैं।
#2. यह शिशुओं का वजन बढ़ाने के लिए भी सबसे अच्छा भोजन है व उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढाता हैं|
#3. यह स्वस्थ आहार स्त्रोत जैसे की अनाज, सुखे मेवे और दालों के संयोजन के साथ आता है। जो शिशु को वह सभी पोषक तत्व देता है जिसकी विकास के चरण में शिशु को बहुत ज्यादा जरूरत होती है।
#4. यह गर्भावती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद होता है। क्योंकि इसमें बहुत अधिक मात्रा में स्वस्थ सामग्री होती हैं।
#5. कई बच्चे एलर्जिक होते हैं| उनको स्टोर से खरीदे हुए शिशु आहार की सामग्री से भी एलर्जी हो सकती है। जब आप घर पर बच्चों का भोजन तैयार करती हैं तो एलर्जी पैदा करने वाले तत्वों से बच सकती हैं और बच्चों के अनुसार भोजन बना सकती हैं। यह घर पर बने सेरेलक का सबसे बड़ा फायदा होता है।
#6. इस मिश्रण का प्रयोग आप इडली, डोसा, लाडू व केक बनाने में भी कर सकती है और इस तरह से पूरा परिवार इस का आनंद उठा सकता है।
#7. इससे शिशुओं को कब्ज की समस्या भी नहीं होती और बच्चे भी इसको खाने में कोई नखरा नहीं दिखाते बल्कि प्यार से खाते हैं।
#8. इसकी तिथि भी एक्सपाइरी नहीं होती। यह 20 से 25 दिनों के लिए बनाकर प्रयोग कर सकते हैं। घर पर बने सेरेलक के फायदे (Cerelac ke Fayde) तो कई हैं लेकिन इसका बड़ा फायदा यह है कि आपको पता होगा कि आप  अपने बच्चे को क्या खाने को दे रहे हैं।

जब बच्चों को माँ के दूध के साथ एक ठोस पदार्थ खिलाने की जरूरत पड़ती है तो सेरेलक इनमें एक सबसे अच्छा विकल्प है। यह घर का बना हुआ सेरेलक (Ghar Par Bana Cerelac) अनाज आधारित शिशु आहार है जो बढ़ते बच्चों के विकास और तेज दिमाग के लिए बहुत ही जरूरी है।

इसे भी पढ़ें: Food Chart for 1 Year Kids in Hindi 

 

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null