बच्चों की मिट्टी खाने की आदत को छुड़वाने के 7 घरेलू उपाय

बच्चों की मिट्टी खाने की आदत को छुड़वाने के 7 घरेलू उपाय

छोटे बच्चों में अक्सर यह आदत देखने को मिलती है जो कोई भी चीज देखी बस मुंह में डाल दी। बस इसी आदत के चलते हुए वे धीरे-धीरे कई बार मिट्टी, चौक या वॉल पेंट खाना भी सीख जाते हैं और इस आदत के कारण उन्हें कहीं बार अपने माता-पिता से डांट भी सुननी पड़ती है। परंतु इसके लिए बच्चों को डांटना या मारना सही उपाय नहीं है बल्कि आप उसे इस बात के लिए प्यार से समझाएं और उसे किसी दूसरे कामों में उलझा कर रखें ताकि उन्हें मिट्टी खाना याद ही ना रहे। परंतु जो बच्चे मिट्टी खाते हैं अक्सर उसके मां-बाप सख्ती से पेश आते हैं क्योंकि मिट्टी खाना (Mitti Khana) गलत आदत के साथ-साथ बच्चों के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर डालता है जिसके कारण बच्चों में दस्त या उनके पेट में दर्द या कीड़े भी हो सकते हैं। कई बार ज्यादा मिट्टी खाने से बच्चों में स्टोन की भी शिकायत हो सकती है। जाहिर सी बात है इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए मां बाप का सख्ती से पेश आना लाजमी है। परंतु आप यह काम बिना शक्ति आजमाएं कुछ घरेलू नुस्खे (Home Remedies for Soil Eating habit) अपनाकर भी कर सकती हैं, जो कि इस प्रकार है:

बच्चों में मिट्टी खाने की आदत छुड़ाने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Soil Eating habit in Hindi)

कई बार जब बच्चा गर्भ में होता है तो मां के द्वारा भी मिट्टी या चौक खाने से शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है और कुछ बच्चे तो ऐसे होते हैं जो मिट्टी के साथ-साथ इंट, कपड़ा, कोयला, कागज या राख आदि भी खाने लगते हैं। आइये इसके लिए कुछ घरेलू उपाय जाने। #1. लौंग (Cloves) लौंग की कुछ कलियों को लेकर पीस लें और फिर पीसी हुई लौंग को पानी में डालकर अच्छे से उबाल ले। बच्चे को दिन में उबालकर एक-एक चम्मच यह लौंग वाला पानी पिलाएं। इससे उसकी मिट्टी खाने की आदत जल्द ही छूट जाएगी। #2. केला और शहद (Banana and Honey) अगर आपके बच्चों को मिट्टी खाने की आदत है तो आप इस समस्या को दूर करने के लिए बच्चों को प्रतिदिन एक केला शहद के साथ मिला कर दें। आप पके हुए केले को मैश करके उसमें शहद मिलाकर बच्चों को थोड़ा-थोड़ा अंतराल के बाद खाने को दें। इससे उसका पेट भी पूरा भरा रहेगा और मिट्टी खाने की आदत भी छूट जाएगी। Read Also: बच्चों की पेट में गैस बनने पर क्या करें 

#3. अजवाइन (Ajwain) अजवाइन का इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है और यह बहुत गुणकारी भी होता है। बच्चों में मिट्टी की आदत छुड़ाने के लिए आप प्रतिदिन रात को गुनगुने पानी के साथ एक चम्मच अजवाइन का चूर्ण बनाकर बच्चे को खिलाएं। अगर बच्चा अजवाइन का चूर्ण ना ले तो आप उसे अजवाइन का पानी भी दे सकती हैं। अगर आप इस प्रक्रिया को 2 से 3 सप्ताह तक जारी रखेंगी तो आपके बच्चे में मिट्टी खाने की आदत जरूर छूट जाएगी। #4. आम की गुठली (Mango Core) इसके लिए आप आम की गुठली में से निकलने वाली गिरी का चूर्ण बना ले। फिर इसे पानी में मिलाकर बच्चों को दिन में तीन बार दे। ऐसा करने से आपके बच्चे के पेट के कीड़े भी मर जाएंगे और उसकी मिट्टी खाने की आदत भी छूट जाएगी।   #5. चूर्ण गाय के दूध के साथ (Churn with cow’s milk) सोया 30 ग्राम, मुर्दासंग 20 ग्राम, शुद्ध गंधक 20 ग्राम, छोटी इलायची के बीज 10 ग्राम, इन सभी को पीसकर और फिर उसको कपड़े से छानकर चूर्ण बना कर रख लें। आप अपने बच्चों को यह चूर्ण 120 मिलीग्राम से 480 मिलीग्राम तक गाय के गर्म दूध के साथ दें। 5 दिनों तक रोजाना तीन बार देने से आमाशय और आंत्र की शुद्धि हो जाएगी और आपका बच्चा मिट्टी खाना छोड़ सकेगा। यहां यह ध्यान दें कि एक साल के बच्चों को गाय का दूध नहीं देना चाहिए।  

#6. लोहा व घी (Iron and Ghee) लोहा धात्री 500 मिलीग्राम से 1 ग्राम की मात्रा में व समान मात्रा में घी और शहद के साथ मिश्री चूर्ण मिलाकर चटाने से भी बहुत लाभ मिलता है।   #7. इन सब घरेलू नुस्खों के अलावा आप बच्चों की किसी अच्छे से डॉक्टर से भी जांच करवा ले। यह मिट्टी की आदत कई बार बच्चों में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी हो सकती है। इसके लिए आप बच्चे को पोषक तत्वों से भरपूर आहार दें ताकि उसके शरीर में कभी किसी भी पोषक तत्व की कमी ना आए।   इसके अलावा आप कुछ जरूरी बातों पर भी ध्यान दें (Necesary things to remember)
  • आप अपने बच्चों को प्यार से समझाएं की मिट्टी खाने से क्या-क्या बीमारियां लग सकती हैं।
  • आप घर में खाने का डिब्बा तैयार करके ऐसी जगह रखे जहां से बच्चा आसानी से उसे ले सके। जब भी उसका मिट्टी खाने का मन करे तो वह उस डब्बे में से खाने की चीज निकाल कर खा सके।
  • यदि बच्चा मिट्टी खाने की आदत छोड़ने की कोशिश करता है तो उसमें उसका पूरा सहयोग करें ना कि उसे बार-बार सजा दे।
क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null