बच्चों की बहती नाक को रोकने के 11 घरेलू उपाय

बच्चों की बहती नाक को रोकने के 11 घरेलू उपाय

बच्चों में जुकाम या नाक बहने (Running Nose) की समस्या बहुत ही आम होती है। मौसम बदलने के साथ बच्चों में यह समस्या बढ़ जाती है। लगातार नाक बहने से साँस लेने में भी समस्या होती है और इस परेशानी में न तो ठीक से खाया जाता है, न ही कुछ पिया जाता है। ऐसे में बच्चे का चिड़चिड़ा होना भी स्वभाविक है। नाक को बहने से रोकने के लिए दवाइयों के स्थान पर अगर आप घरेलू उपायों का प्रयोग करेंगे तो बच्चों को जल्दी राहत मिलेगी और इन नुस्खों का कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता हैं। जानिए बच्चो में नाक बहने से रोकने के कुछ आसान घरेलू उपाय (Home Remedies of Running Nose in Hindi)

 

बच्चों की नाक बहने से रोकने के 11 घरेलू नुस्खे (Home Remedies for Running Nose of Kids in Hindi)

#1. तुलसी के पत्ते

तुलसी एक ऐसी औषधी हैं जो कई बीमारियों में रामबाण का काम करती हैं। बच्चे की बहती नाक की समस्या को दूर करने लिए उसे तुलसी के पत्तों के साथ थोड़ा गुड़ या शहद मिला कर दिन में दो या तीन बार खाने को दें। इससे नाक का बहना बंद हो जाता है और यह उपाय बच्चों को जुकाम में होने वाली अन्य समस्याओं से भी राहत दिलाता है। साथ ही अगर आप बच्चे को दिन में दो बार रोजाना तुलसी के पत्ते खाने को देंगे तो यह उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यून सिस्टम) को भी मजबूत बनाता है जिससे वो खांसी, जुकाम और बंद नाक जैसी समस्या से बचे रहेंगे।

 

#2. अजवायन

अजवायन एक ऐसा मसाला है जिसका प्रयोग कई रोगों को दूर करने में किया जाता है। बच्चों को बहती नाक (Bachchon ki Naak Behna) से राहत दिलाने के लिए थोड़ी सी अजवायन लें और उसे बारीक पीस लें। इसके बाद इस अजवायन को एक रुमाल में बांध दे। जब भी बच्चे का नाक बहे तो इसे बच्चे को सुंघाएं। इस नुस्खे से बच्चे को जल्द राहत मिलेगी।

 

#3. सरसों का तेल

सरसों का तेल बच्चों की बहती (Kids Running Nose) नाक को रोक सकता है। कुछ बुँदे सरसों का तेल लें और कुछेक सेकेंड तक गर्म करें। उसके बाद इसे गुनगुना होने दें। गुनगुने सरसों के तेल की एक-एक बूंद को बच्चे की नाक में डालें। ऐसा करने से जुकाम भी जल्दी ठीक होगा और बहती नाक भी बंद हो जायेगी। गुनगुने सरसों के तेल से बच्चों को मालिश करने से भी उन्हें सर्दी-जुकाम में आराम मिलता है।

 

#4. शहद

अगर बच्चे की नाक बह (Bachchon Ki Naak Behna) रही है तो ऐसे में गुनगुने पानी में नींबू और शहद मिलाकर इस मिश्रण को बच्चे को पीने के लिए दें। ऐसा करने से बच्चे की बहती नाक खुल जाएंगी और उसे जुकाम में होने वाली कई समस्याओं से राहत मिलेगी।

 

#5. गर्म पानी

नाक के बहने से बच्चे में पानी की कमी हो जाती है। उनके शरीर में पानी की कमी न हो इसलिए बच्चे को तरल पदार्थ पिलाते रहें। ऐसे समय में बच्चे को थोड़ी-थोड़ी देर में हल्का गुनगुना पानी पीने को दें। ऐसा करने से बच्चे को आराम महसूस होगा।

#6. भाप और गरारे

अगर बच्चा बड़ा है और भाप ले सकता है तो यह बहती नाक के लिए सबसे प्रभावी उपाय होता है। भाप लेने से बंद नाक में भी आराम मिलता है। इसके लिए एक बर्तन में गर्म पानी डालें और भाप निकलने तक गर्म करें फिर इसकी भाप बच्चे को दें। आप इस पानी में थोडा सा विक्स या नमक भी डाल सकते हैं। बस इस बात का ध्यान रखें कि भाप दिलाते समय हमेशा बच्चे के साथ रखें ताकि वह गर्म पानी से खुद को नुकसान ना पहुंचा ले और साथ ही गर्म पानी से उसकी उचित दूरी बनाये रखें। इसके लिए आप बाजार में मौजूद स्टीमर का भी प्रयोग कर सकते हैं।

 

अगर बच्चा गरारे कर सकता है तो गुनगुने पानी में थोड़ा सा नमक डालकर दिन में दो या तीन बाद गरारे कराने से भी उसकी बहती नाक जल्द ही बंद हो जाएगी।

Read: बच्चों के बालों में जुओं से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय

 

#7. अदरक

अदरक भी जुकाम या बहती नाक को बंद कराने का अच्छा उपाय है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर से सभी बैक्टीरिया को बाहर निकाल देते हैं। अदरक का रस निकाल कर शहद में मिलाए और बच्चे को खिलाएं, इससे उसकी नाक का बहना बंद हो जायेगा। यह उपाय काफी जल्दी काम करता है, यानि दिन में दो या तीन बार इसे अपनाने से ही आपको असर दिखना शुरु हो जाएगा।

 

#8. हल्दी

हल्दी के आयुर्वेदिक गुण किसी से छुपे हुए नहीं हैं। इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटी ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। अगर बच्चे की नाक बहुत अधिक बह रही हो तो हल्दी को जलाएं और इसके धुएं को बच्चे को सूंघाएं, ऐसा करने से बहती नाक से राहत मिलेगी। इसके साथ ही आप बच्चे को पानी या गर्म दूध में भी हल्दी मिलाकर दे सकती हैं।

Read: बच्चों के गले में दर्द दूर करने के 7 घरेलू उपाय

 

#9. काढ़ा

जुकाम या बहती नाक को रोकने के लिए काढ़ा बनाना बेहद आसान है। इसके लिए एक गिलास पानी में लौंग, इलायची, अजवायन, तुलसी, अदरक, हल्दी आदि डालकर उबाल लें। जब यह अच्छे से उबाल जाए तो इस काढ़े को ठंडा होने दें। अब इस मिश्रण में शहद या चीनी मिला लें। इस काढ़े दिन में दो से तीन बार पिलाने से बच्चा काफी अच्छा महसूस करेगा।

 

#10. लहसून

लहसून भी बहती नाक से आराम पाने का एक घरेलू उपाय है। अगर बच्चे को आप लहसून भून कर खिला सकें तो आपको जल्दी प्रभाव नजर आएगा। अगर बच्चा ऐसे न खाए तो लहसून को दूध में उबाल कर उसमें चीनी या शहद डालकर बच्चे को दें। जल्दी ही अच्छे परिणाम मिलेंगे।

 

#11. नीलगिरी का तेल

नीलगिरि के तेल को रुमाल में डालकर बच्चे को सुंघाने से बहती नाक बंद हो जाती है और अगर बंद नाक की समस्या हो तो उससे भी आराम मिलता है।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null