10 अच्छी आदतें जो बच्चों को पिता से सीखनी चाहिए

10 अच्छी आदतें जो बच्चों को पिता से सीखनी चाहिए

पापा, पिता, डैड, डैडी, बाबा चाहे आप किसी भी नाम से बुला लो लेकिन एक बच्चे के लिए उसके पापा किसी सुपर हीरो से कम नहीं होते। पिता परिवार की रीढ़ की हड्डी की तरह हैं जिनके बिना परिवार और बच्चे अधूरे होते हैं। बच्चों के लिए उनके पिता एक रोल मॉडल होते हैं जिनका अनुसरण बच्चे पूरी उम्र करते हैं। बच्चे अपने पिता से कुछ ऐसी बातें सीखते हैं जिन्हे और कोई नहीं सीखा सकता। जानिए ऐसी कुछ आदतों के बारे में जिन्हें बच्चों को अपने पिता (Good Habits Kids Learn from Father) से अवश्य सीखनी चाहिए।  

बच्चों के जीवन में पिता का महत्व (Importance of Father in Hindi)

मुझे आज भी याद है जब दूर स्कूल होने के बाद भी मेरे पापा मुझे स्कूल छोड़ने जाते थे, हम जिस चीज़ की भी मांग करें उसे तुरंत पूरा करते थे, आज भी वो हर स्थिति में मेरा साथ दिया करते हैं। बच्चे के जीवन में उसकी माँ के महत्व, ममता व प्यार की अक्सर लोग बातें करते हैं और एक पिता के कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को उससे कम आंका जाता है क्योंकि पिता अपने प्यार को उस तरह से जाहिर नहीं करते जिस तरह से माँ करती है। बच्चे के जीवन में पिता ना सिर्फ एक साए कि तरह होता है बल्कि पिता उसे जीवन की कठिन परिस्थितियों को समझाने में सबसे सहायक होता है। पिता के होते हुए एक बच्चे को किसी उदाहरण को ढूंढ़ने की आवश्यकता नहीं होती। इसे भी पढ़ेंः अपने बच्चो के साथ अच्छा संबंध बनाने के तरीके

10 अच्छी आदतें जो बच्चों को अपने पिता से सीखनी चाहिए (10 Good Habits Kids Learn from Father in Hindi)

#1. त्याग (Sacrifice) पिता अपने परिवार और बच्चों के लिए हर त्याग करता है। कुछ दिन पहले एक तस्वीर इंटरनेट में वायरल हो रही थी जिसमें एक बच्ची किसी महंगी जगह खाना खा रही है और सामने बैठे उसके पापा उसे देख रहे हैं। दरअसल उस बच्ची के जन्मदिन के दिन उसके पिता उसे इस जगह खाने के लिए लेकर आए थे। हालाँकि उनके पास इतने ही पैसे थे कि वो केवल बच्ची को वहां खिला सकते थे इसलिए वो खुद कुछ न खाकर अपनी बेटी को उसकी पसंद का खाना खाते हुए देख कर खुश हो रहे थे। इसे कहते हैं त्याग। पापा के पास चाहे खुद के लिए कुछ न हो लेकिन वो अपने बच्चों के सपनों को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं। बच्चों को यह त्याग का भाव अपने पिता से अवश्य सिखना चाहिए। #2. कड़ी मेहनत (Hard Work) पिता दिन रात मेहनत करता है ताकि वो अपने परिवार के लिए सभी सुख-सुविधाओं को जुटा पाएं। पापा की मेहनत का ही नतीजा होता है जो बच्चे आराम से अपना जीवन व्यतीत करते हैं और जीवन में सब कुछ हासिल करते हैं। अपने बच्चों के लिए पिता कोई भी जोखिम लेने से पीछे नहीं हटते। बच्चों को मेहनत करने का यह भाव अपने पिता से अवश्य सीखनी चाहिए। #3. समय की पाबंदी (Punctuality) मुझे याद है, चाहे बारिश हो या धूप, आंधी आये या तूफान मेरे पापा हमेशा समय पर काम के लिए निकल जाया करते थे। यही नहीं, जब भी हमें घर से बाहर जाना होता था तो पापा समय से पहले तैयार हो जाया करते थे। हमें पूरे समय पर स्कूल के लिए तैयार किया करते थे। केवल मेरे नहीं बल्कि हर पापा ऐसे होते हैं जो समय का सम्मान करते हैं। समय का पाबंद होने जैसी आदत अगर किसी से सिखनी हो तो एक बार अपने पापा की तरफ अवश्य देखना चाहिए। इसे भी पढ़ेंः 3 से 5 साल के बच्चों को कैसे सिखाएं अच्छी आदतें #4. क्षमा करना (Forgiveness) हो सकता है कि आपको सबसे ज्यादा मार आपके पिता के द्वारा पड़ी हो लेकिन ऐसी तमाम गलतियां भी होती हैं जो पापा हमेशा माफ कर देते हैं। अगर बच्चों को दूसरों को क्षमा करना सिखाना है तो उन्हें अपने पिता से अवश्य सीख लेनी चाहिए। #5. देखभाल करना (Caring) पिता अपने परिवार की जड़ और स्तम्भ होता है जो अपनी छाया में अपने बच्चों को जीवन की हर गर्मी, धूप और बारिश से बचाता है। पापा अपने परिवार और बच्चों की हर संभव देखभाल करता है। किसी भी मुश्किल या आवश्यकता के समय वो अपने परिवार का साथ देता है। अपने बच्चों और परिवार की कैसे देखभाल की जाती है और अपनी ज़िम्मेदारियों को कैसे पूरा किया जाता है, इसे बच्चा अपने पापा से बेहतर और किसी से नहीं सीख सकता। #6. मुसीबतों का सामना करना (Facing Troubles) अपने बच्चों और परिवार पर अगर कोई मुसीबत आती है तो पिता हमेशा उनके साथ खड़े रहते हैं और मुसीबतों का सामना भी करते थे, यही नहीं परिवार हमेशा सुरक्षित रहे और उन्हें किसी मुश्किल का सामना न करना पड़े, इस बात का भी वो पूरा ख्याल रखते हैं। बच्चे अपने पापा से यह भी सीखते हैं कि मुसीबतों से हार नहीं माननी चाहिए बल्कि उनका डटकर सामना करना चाहिए।
#7. संतुष्टि (Satisfaction) बच्चा अपने पापा से जीवन में संतुष्ट रहने की शिक्षा भी लेता है। आपके पिता पूरा दिन काम करते हैं। सुबह से शाम तक घर से बाहर रहते हैं, अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करते हैं, परिवार को भी समय देते हैं और बदले में जो भी मिलता है उससे संतुष्ट रहते हैं। वो किसी से कोई उम्मीद नहीं करते। इस तरह से वो खुश भी रहते हैं। आप भी हमेशा खुश रहने की कला अपने पापा से अवश्य सीखें। #8. क्रोध को काबू करना (To control anger) क्रोध इंसान को जानवर बना देता है और गुस्से से कोई भी काम ठीक नहीं होता बल्कि बिगड़ जाता है। एक पिता इस बात को अच्छे से जानता है। अपने देखा ही होगा कि आपके पापा कैसे आपकी गलती होने पर भी आपको बिना क्रोध किये आपको समझाते हैं। उनकी इस आदत से न केवल बच्चा सीखता है बल्कि उसे अपनाता भी है। अगर इस आदत को उसने अपना लिया तो समझ लें कि उसका पूरा जीवन सफल हो गया। #9. दूसरों से सीखना (Learning from others) मनुष्य दूसरों से ही सीखता है खासतौर पर एक पिता अन्य लोगों को देखकर ही सीखते हैं। पिता अपने बच्चों की जिम्मेदारियां पूरी करना और उनकी सुरक्षा करने के हुनर को दूसरों से ही सीखता है। यही नहीं एक पिता अपने बच्चों के लिए दूसरों से माफ़ी मांगने या झुकने के लिए भी तैयार हो जाता है। #10. सम्मान (Respect) हर बच्चे के लिए उनके पापा आदर्श होते हैं। वो दूसरों का सम्मान करने की कला को अपने पापा से ही सीखते हैं। इसलिए पिता को भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वो कभी भी दूसरों का अपमान न करें क्योंकि इससे आने वाले समय में आपके बच्चे भी आपका सम्मान भी नहीं करेंगे। एक पिता खुद में एक गुरुकुल है जो अपने बच्चों को जीवन की हर एक शिक्षा देता है ताकि उसके बच्चे जीवन में सफलता प्राप्त करें और साथ ही एक अच्छा नागरिक बने। पिता जो भी अपने बच्चों के लिए करता है, उसका ऋण बच्चे पूरी उम्र नहीं चुका सकते। एक पिता को भी अपने बच्चों के सामने ऐसा कोई भी कार्य करने से बचना चाहिए जिससे उनपर बुरा प्रभाव पड़े। शराब पीना, बीवी पर हाथ उठाना, ट्रैफिक में गालियां देना या दिनभर मोबाइल पर लगे रहना बच्चों मे मन में पिता के लिए प्रेमभाव को कम करता है। ऐसे कार्य एक पिता होने के नाते कभी नहीं करना चाहिए। इसे भी पढ़ेंः बच्चों को सब्जियां खिलाने के 6 टिप्स क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null