18 महीने के बच्चों के लिए फूड चार्ट

18 महीने के बच्चों के लिए फूड चार्ट

18 महीने यानि डेढ़ साल का होते-होते बच्चे काफी सारी गतिविधियां करने लगते हैं। इस समय तक बच्चे दौड़ना, खेलना, अपने आप खाना आदि सिखने लगते हैं। यह बच्चों को नए स्वादों और खाने के तरीके से अवगत कराने का सबसे सही समय होता है। 18 माह के बच्चों के लिए फूड चार्ट (Food Chart for 18 Month Old Kids) बनाते समय हम यह ध्यान रखना चाहिए कि इस आयु में बच्चों को हर छोटे-छोटे समय के अंतराल में कुछ ना कुछ देना आवश्यक होता है। 18 माह के बच्चे की डाइट में सभी पोषण तत्व समान मात्रा में होने चाहिए। आइयें जानें 18 माह के बच्चे का दैनिक आहार चार्ट या डाइट चार्ट (Food Chart for 18 Month Old Kids) कैसा होना चाहिए।

18 माह के बच्चों को कितनी बार खिलाना चाहिए

18 महीने के बच्चों को कम से कम पांच बार ठोस आहार और दो बार दूध अवश्य पिलाना चाहिए। आधा गिलास दूध सुबह और आधा से एक गिलास रात को सोते समय बच्चे को रोजाना पिलाना ही चाहिए। इसके अलावा बच्चे को अगर इन पांच बार के बाद भी भूख लगे तो कुछ हल्का स्नैक्स देना चाहिए। दूध पिलाने के बाद काफी देर तक बच्चे को खाना नहीं खिलाना चाहिए क्योंकि दूध पीने से पेट भर जाता है ऐसे में बच्चे सही से खा नहीं पाते। रात का डिनर बच्चे को जल्दी करा देना चाहिए। आइयें अब एक नजर डालते हैं 18 माह के बच्चों के सैन्पल फूड चार्ट (Food Chart For 18 Month Old Kids in Hindi) पर।

18 महीने के बच्चों के लिए फूड चार्ट (Food Chart for 18 Month Old Kids in Hindi)

सुबह 8 बजे हर दिन आधा गिलास दूध। अगर आप बच्चे को दूध ना पिला सकें तो कोशिश करें कि इसे दिन में या रात के समय अवश्य दें। पूरे दिन में या तो एक गिलास दूध पिलाएं या फिर दो बार आधा-आधा गिलास दूध दें

Read: Food Chart for 1 year Old Kids in Hindi

कैसा हो नाश्ता (Breakfast for 18 Month Old Baby)

18 माह के बच्चों के सारे दांत नहीं आए होते हैं। ऐसे में उन्हें ज्यादा ठोस आहार नहीं देना चाहिए। नाश्ते में आप बच्चे को पोहा, रागी या बेसन का चीला, कॉर्नफ्लेक्स, छोटा परांठा और दही आदि दे सकते हैं। नाश्ते में कोशिश करें कि हमेशा थोड़े फल अवश्य दें। आप सुबह के समय फलों का चाट बनाकर भी बच्चे को दे सकती हैं। नाश्ते के कुछ आइडियाज निम्न हैंः
रागी इडली
दलिए की खीर
वेज परांठा
पनीर परांठा
बेसन का चीला
उबले अंडे या अंडे का आमलेट

पोस्ट ब्रेकफास्ट (Post Breakfast Suggestions for Kids)

बच्चे को सुबह का नाश्ता कराने के बाद दो से तीन घंटे बाद कुछ हल्का खाने के लिए अवश्य दें। याद रखें इस समय अनाज ना दें। इस समय आप फल, दूध, शेक, वेज कटलेट आदि दे सकते हैं। बच्चे को पोस्ट ब्रेकफास्ट देने वाले आहारः
कटे हुए पपीते
कटे हुए अनानास
एक कटोरी अनार के दाने
एक आधा केला
मिल्क शेक

Read: Balanced Diet Chart for Kids in Hindi

लंच (Lunch Ideas for 18 Month Old Kids)

18 महीने के बच्चों को लंच में ऐसी चीज देनी चाहिए जिससे उन्हें संपूर्ण पोषण मिल सके। दिन का खाना सारे दिन की ताकत पाने का मुख्य स्त्रोत होता है। लंच में आप बच्चे को दाल-चावल, चिकन, मटन जैसी हैवी चीजें भी खाने को दे सकती हैं। आइयें जानें कुछ ऐसे आहार जिन्हें आप अपने 18 महीने के बच्चे को लंच में दे सकती हैंः

  • दाल-चावल
  • राजमा, रोटी और सलाद
  • चिकन रोटी या अंडा करी और चावल
  • दलिया या मसूर के दाल की खिचड़ी
  • मैथी परांठा मूंग की दाल के साथ
  • पोस्ट लंच


लंच के बाद शाम के समय बच्चों को कुछ ऐसा खाने को दें जिससे खेलते समय उसके शरीर में तरो-ताजगी बने रहें। इस समय ज्यादा हैवी चीज भी ना दें वरना बच्चा रात को डिनर के समय परेशान कर सकता है। इस समय बच्चे को कुछ घर पर बने हुए हेल्थी स्नैक्स, पुडिंग्स, स्मूदी या बिस्कुट दे सकती हैं। 18 महीने के बच्चे को आप निम्न चीजें पोस्ट लंच दे सकती हैंः

  • पनीर कटलेट
  • इंस्टेंट ऑट्स
  • दलिया
  • सोया कटलेट
  • एक गिलास दूध और बिस्कुट

Read: Veg Fooc Chart for two year old kids

डिनर (Dinner Ideas for 18 Month Old Baby)

बच्चों को डिनर में कुछ हल्की लेकिन पोषण वाली चीजें देनी चाहिए। आप बच्चे को रात के समय खिचड़ी, दलिया, डोसा, दाल रोटी आदि दे सकती हैं। आइएंं जानें कुछ ऐसे आहार जिन्हें आप अपने बच्चे को रात के समय दे सकती हैंः

  • पालक पनीर और रोटी
  • चिकन सूप और ब्रेड टोस्ट
  • वेज पुलाव
  • मिक्स वेज पतली रोटी के साथ
  • मसाला डोसा
  • पनीर परांठा
  • सेवइयें का पुलाव

इन सबके अतिरिक्त 18 महीने के बच्चों की डाइट (Diet for 18 Month Old Kids) में प्रोटीन से भरी हुई चीजें जैसे सोया, मीट, मछली आदि भी शामिल करनी चाहिए। इसके अलावा आप बच्चे को दही केवल दिन में दें। नॉन वेज या जल्दी ना पचने वाली चीजें हमेशा दिन में देने की कोशिश करनी चाहिए।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null