इस होली बच्चों के लिए यह 9 व्यंजन जरूर बनाएं

इस होली बच्चों के लिए यह 9 व्यंजन जरूर बनाएं

होली आते ही हम रंगों के साथ होली की रेसिपीज (Holi Recipes in Hindi) भी सर्च करना शुरु कर देते हैं। होली का त्यौहार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है इस साल यानी 2019 में यह पर्व 21 और 22 मार्च (रंग वाली होली) को मनाया जाएगा। होली रंगों के साथ व्यंजनों का भी त्यौहार है। होली के नाम सुनते ही सबसे पहली डिश जुबां पर आती है गुजिया की। हालांकि हर क्षेत्र में होली के अवसर पर अलग-अलग व्यंजन बनाएं जाते हैं। आइयें जानते हैं आप अपने बच्चों के लिए होली पर कौन से व्यंजन (Holi Recipes for Kids) बना सकती हैं?

 

बच्चों के लिए होली के व्यंजन (9 Easy Holi Recipes in Hindi for Kids)

#1. गुजिया बनाने की रेसिपी (Easy Gujiya Recipe in Hindi)

Gujiya Recipe in Hindi

होली गुजिया के बिना पूरी हो ही नहीं सकती। गुजिया को बनाना थोड़ा आसान है लेकिन इसे घर पर बनाना सबसे बेहतर होता है। इसमें अधिक ड्राई फ्रूट मिलाकर इसे आप बच्चों के लिए एक अच्छा स्नैक का रूप दे सकती हैं। एक बार बनाने के बाद यह काफी दिन तक चल जाता है। आइये जानते हैं गुजिया कैसे बनाएं (Gujiya Kaise Banaye):

इसे भी पढ़ेंः घर पर होली के प्राकृतिक रंग बनाने की विधि

गुजिया बनाने की साम्रगीः  

  • मैदा – 2 कप (250 ग्राम)
  • घी – 1/4 कप (60 ग्राम)
  • मावा – 1/2 कप (125 ग्राम)
  • सूजी – 1/3 कप (60 ग्राम)
  • बूरा – 3/4 कप (150 ग्राम)
  • बादाम – 10 से 12 (बारीक कटे हुए या पिसे हुए)
  • काजू – 10 से 12 (बारीक कटे हुए)
  • सूखा नारियल – 1/3 कप (कद्दूकस किया हुआ)
  • किशमिश – 1 टेबल स्पून
  • इलायची पावडर- चुटकी भत्र
  • जायफल – ½ बारिक पीसा हुआ
  • घी या रिफाइंड- तलने के लिए

गुजिया का भरावन बनाने की विधिः

गुजिया में जो भरावन बनाना है उसके लिए आप चाहें तो सूजी के स्थान पर मावा की मात्रा भी बढ़ा सकती हैं। सबसे पहले एक पैन में घी गर्म कर उसमें सूजी को भूनें। जब सूजी भून जाए तो उसमें मावा (खोया) डालकर भून लीजिएं।

जब यह ठंडा हो जाए तो इसमें बाकि साम्रगी जैसे ड्राई फ्रूट्स, नारियल का बूरा, इलायची पावडर, जायफल पावडर आदि मिला दें। आप चाहे तो अन्य साम्रगियों को सूजी के साथ पैन में भी डाल सकती हैं लेकिन ऐसा करने से कई बार सूजी ज्यादा पक जाती है।

गुजिया के लिए मैदा थोड़ा टाइट ही गूंथना चाहिए और इसे कम से कम आधा घंटे के लिए ढ़ककर रख देना चाहिए।

गुजिया बनाने की विधिः

अब गूंथे हुई मैदा की लोई बनाकर गोल पूरी बेल लें और उसमें बनाया गया मिक्सचर भरें। फिर इसके किनारों को पानी लगाकर बंद कर दें। अब इसे गुजिया मेकर जो बाजार में आसानी से मिल जाता है, में बंद करके शेप दें।

फिर जब आप सारी गुजियाओं को बना लें फिर एक साथ तलना शुरु करें। अगर आप ताजा गुजिया को तलेंगी तो हो सकता है कि वह फट जाएं लेकिन थोड़ा कड़ा होने के बाद वह तेल में फटते नहीं हैं। इन्हें अच्छे से ड्री फ्राई करें। जब यह दोनों तरफ से गोल्डन यानि सुनहरे रंग के हो जाएं तो समझ जाइयें कि आपकी गुजिया तैयार हो गई है।

और हां सिर्फ सूजी या खोया की स्टफिंग ही नहीं अब तो आप चॉक्लेट या नारियल भी मिलाकर अपने नन्हे-मुन्नों को दे सकती हैं।

इसे भी पढ़ेंः 10 आसान फिंगर फूड रेसिपीज

#2. मूंग दाल का हलवा बनाने की विधि (Moong Daal Halwa)

मूंग दाल का हलवा बनाने की विधि (Moong Daal Halwa)

सामग्री:

  • मूंग की दाल- 1/2 कप भीगी हुई
  • मावा- 1/4 कप
  • चीनी- 1/2 कप
  • घी- 1/2 कप
  • काजू- 10 से 12 बारीक कटे हुए
  • बादाम- 10 से 12 बारीक कटे हुए
  • पिस्ता- 7 से 8 बारीक कटे हुए
  • इलायची पाउडर- 1 चम्मच

 

विधि:

  • सबसे पहले आप मूंग दाल को धोकर उसे 3 से 4 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दें
  • उसके बाद दाल का अतिरिक्त पानी निकाल कर मिक्सी में डाल कर अच्छे से पीस ले
  • बादाम, काजू और पिस्ता को भी बारीक काट लें
  • अब गैस पर एक मोटे तले की कढ़ाई रखकर उसमे घी गर्म करें
  • फिर उसमें पिसी हुई दाल डालकर धीमी आंच पर सेंके
  • दाल के हल्का सुनहरा भूरा होने तक लगातार चम्मच चलाते रहें
  • जब दाल कढ़ाई से चिपकना बंद कर दे और घी छोड़ने लगे तब आप इसमें मावा डाल दे और बराबर चलाते रहे
  • फिर इसमें आप सारे मेरे और इलायची पाउडर भी डाल दें
  • अंत में आप इसमें चीनी डालकर अच्छे से मिलाएं
  • आप चाहे तो मूंग दाल के हलवे में केसर को भी मिला सकती हैं
  • लो तैयार है मूंग दाल का हलवा (Moong Daal ka Halwa) गरमा-गरम हलवा प्लेट में डाल कर अपने बच्चे को खिलाये

 

नोट: आप मूंग दाल की जगह सूजी या आटे का हलवा भी बना सकती हैं

 

#3. मालपुआ बनाने की विधि (Maalpua)

मालपुआ बनाने की विधि (Maalpua)

सामग्री:

  • फुल क्रीम दूध- 4 कप
  • सूजी- 1 बड़ा चम्मच
  • मैदा- 4 बड़े चम्मच
  • शक्कर या चीनी- 1 बड़ा चम्मच
  • इलायची पाउडर- 1 चम्मच
  • मेवे- दो चम्मच
  • घी- तलने के लिए

 

चाशनी के लिए सामग्री:

  • चीनी- 1 कप
  • पानी- 1/2 कप
  • केसर- 8 से 9 धागे
  • दूध- एक बड़ा चम्मच
  • इलायची- 1 चम्मच
  • पिस्ता- 2 छोटे चम्मच सजाने के लिए

 

मालपुआ बनाने की विधि:

  • सबसे पहले आप एक मोटी तली की कढ़ाई लेकर उसमें दूध डालकर हुए गाढ़ा कर ले
  • जब दूध उबल जाए और गाढ़ा हो जाए तब इसे ठंडा होने के लिए रख दें
  • फिर आप गाढ़े ठंडे दूध में चीनी, सूजी, इलायची पावडर और मैदा मिला लें और अच्छे से सबको मिलाएं
  • इन सब को मिलाते समय आप ध्यान रखें कि यह ना तो ज्यादा गाढ़ा हो और ना ही ज्यादा पतला
  • अब इस तैयार मिश्रण को आधे घंटे के लिए छोड़ दें
  • आधे घंटे बाद एक पैन में तेल डालकर गर्म करें और फिर गैस को धीमा कर के एक बड़ी चम्मच से तैयार मिश्रण को लेकर इस पर फैलाएं
  • पैन पर जितने गोले बनते हैं उतने गोल डालें धीरे-धीरे आप छलनी से मालपुए के ऊपर घी डालें और दोनों तरफ हल्का सुनहरा होने तक सेंक ले
  • आप साथ के साथ एक और कढ़ाई लेकर उसमें पानी डालकर उसमे चीनी मिलाकर एक तार की चाशनी बनाएं
  • केसर के धागों को गुनगुने दूध में मिलाकर अलग से रख दे
  • चाशनी में केसर वाला दूध और इलायची पाउडर मिलाएं
  • अब तैयार मालपुए को चाशनी में 15 से 20 मिनट के लिए भिगो कर रखें
  • अब इसे प्लेट में सजाकर अपने बच्चे को सर्व करें

 

#4. शकरपारे बनाने की विधि  (Shakarpare)

शकरपारे बनाने की विधि  (Shakarpare)

सामग्री:

  • मैदा- 2 कप
  • चीनी- 1 कप
  • इलायची पावडर- 1 चम्मच
  • घी- 1/4 कप
  • हल्का गर्म पानी- आटा गूंथने के लिए
  • तेल- तलने के लिए

 

विधि:

  • सबसे पहले आप मैदे में तेल या घी का मोयन लगाकर गुनगुने पानी से आटा गूंथ लें और आधे घंटे के लिए गिले सूती कपड़े से ढक कर रख दें ताकि आटा सेट हो जाए
  • आधे घंटे बाद आटे में लोच लगाकर गोल-गोल लोई बनाकर बेल ले
  • आप थोड़ी सी मोटी परत की रोटी बना ले
  • फिर आप चाकू से आधा इंच के आकर में इसे काट लेआप चाहे तो इसे अपने बच्चों की पसंद के अनुसार भी काट सकती हैं
  • अब एक कड़ाही में तेल डालकर गर्म करें और उसमें शक्कर पारे डालकर तले
  • आंच को धीमा ही रखें जब शकरपारे हल्के सुनहरे भूरे रंग के हो जाए तब इन्हें तेल से निकाल कर प्लेट में रखें
  • अब आप एक और कढ़ाई लेकर उसमें पानी और चीनी डालकर एक तार की चाशनी बनाएं और उसमें इलायची पावडर भी डाल दे
  • अब तैयार चाशनी में टेल हुए शकरपारे डाले और इन्हें इसमें अच्छे से मिलाये।
  • लो तैयार हैं आपके बच्चे के लिए शकरपारे (Shakarpare)।

 

#5. घर पर पापड़ी चाट कैसे बनाएं (Papdi Chaat)

घर पर पापड़ी चाट कैसे बनाएं (Papdi Chaat)

मीठे के साथ-साथ अगर कुछ नमकीन हो जाए तो फिर क्या कहना इससे बच्चे भी बहुत खुश हो जाते हैं और त्यौहार का मजा भी बढ़ जाता है तो आइए जानते हैं पापड़ी चाट (Papdi Chaat) कैसे बनाया जाए

सामग्री:

  • मैदा- 1 कप
  • सूजी- 1/2 कप
  • गेहूं का आटा- 1/2 कप
  • नमक- 1/2 चम्मच
  • अजवाइन- स्वादानुसार
  • तेल या घी- 4 बड़े चम्मच
  • पानी- आटा गूंथने के लिए
  • छोले- 1 कप उबले हुए
  • आलू- 2 उबले हुए
  • मीठी चटनी- 1 कप
    हरी चटनी- 1/2 कप
  • दही- 1 कप
  • काली मिर्च पावडर- स्वादानुसार भुनी हुई
  • जीरा पावडर- स्वादानुसार
  • भुजिया या महीन सेव- 4 चम्मच
  • हरा धनिया- 2 चम्मच बारीक कटे हुए

विधि:

  • सबसे पहले आप एक परात में मैदा, सूजी, गेहूं का आटा, नमक व मोयन के लिए तेल और अजवाइन डालकर अच्छे से दोनों हाथों से मिला ले
  • अब गुनगुने पानी से थोड़ा-थोड़ा करते हुए आटा गूंथ लें और आधे घंटे के लिए इसी गीले सूती कपड़े से ढक कर रख दे
  • आधे घंटे बाद थोड़ा सा तेल लगा कर दो बार लोच लगाएं और फिर इसकी छोटी-छोटी लोई बनाकर 2 इंच की पापड़ी बेल ले
  • अबे कढ़ाई में तेल डालकर गर्म करें और सारी पापड़ीयों को ताल ले
  • अब सारी पापड़ी को एक टिशू पेपर पर निकाल कर ठंडा करें
  • उबले आलू को छीलकर छोटे-छोटे आकार में काट ले और दही को भी फेंट ले
  • अंत में एक प्लेट में पापड़ी रखकर उसको ऊपर से थोड़ा सा फोड़कर उसके अंदर एक चम्मच छोले और कटे हुए आलू और एक चम्मच दही डाले
  • फिर आप इस पर मीठी और हरी चटनी डालकर, ऊपर से काली मिर्च, नमक, भुना हुआ जीरा पावडर, भुजिया या सेव डालें और हरे धनिए से सजाएं
  • अब यह सुंदर सा पापड़ी चाट अपने नन्हे से बच्चे को खाने को दें तो वह भी बहुत खुश होगा

नोट: आप पापड़ी की जगह मठरी या खाली आलू का भी इस्तेमाल कर सकती हैं

इसे भी पढ़ेंः होली के रंग छुड़ाने के आसान तरीके

#6. सूजी के दही बड़े बनाने की रेसिपी (Sooji ke dahi bade)

सूजी के दही बड़े बनाने की रेसिपी (Sooji ke dahi bade)

सामग्री:

  • सूजी- 2 कप
  • दही- 1 कप
  • नमक- स्वाद अनुसार
  • अदरक- स्वादानुसार
  • बेकिंग सोडा- चुटकी भर
  • तेल- तलने के लिए
  • काली मिर्च- 1/2 चम्मच
  • काला नमक- स्वादानुसार भुना हुआ
  • जीरा पावडर- स्वादानुसार
  • मीठी चटनी- 2 चम्मच
  • इमली की चटनी- 2 चम्मच
  • हरा धनिया- 2 बड़े चम्मच बारीक कटे हुए

 

विधि:

  • सबसे पहले आप एक कटोरी में सूजी और दही डालकर मिक्स कर लें
  • अब इस मिश्रण में नमक, अदरक का पेस्ट, काली मिर्च पावडर और हरा धनिया डालकर अच्छे से मिला लें
  • इस मिश्रण को आधे घंटे के लिए रख दें ताकि सूजी फूल कर तैयार हो जाए
  • मिश्रण के फूल जाने के बाद इसमें बेकिंग सोडा डाल कर मिक्स करें और एक कटोरी में थोड़ा सा पानी डाल कर अलग रखें
  • अब आप एक मीडियम आकार की चम्मच लेकर पहले पानी वाली कटोरी में गिला करें और फिर उसमें मिश्रण लेकर कढ़ाई में डालें और धीमी आंच पर सारे बड़े ऐसे ही ताल ले
  • बड़ो को दोनों तरफ से हल्के भूरे होने तक तले और फिर सारे बड़ों को तलकर बाहर निकाल ले
  • अब इन्हें साथ के साथ पानी में अच्छी तरह से डुबो दें ताकि ये नरम होकर फूल जाए
  • एक घंटे बाद बड़ों को पानी में से बाहर निकाल दे पानी से बाहर निकालते समय इन्हें हाथों के बीच में रखकर अच्छे से निचोड़ ले और फिर सारे बड़े एक तरफ रख दे
  • दही बड़ा परोसने के लिए आप एक प्लेट में इन्हें रखकर उसमें फेंटी हुई दही डालें और ऊपर से इमली की चटनी, मीठी चटनी, काला नमक, भुना हुआ जीरा पावडर, काली मिर्च पाउडर डालें
  • आप चाहे तो बड़े के साथ पपड़ी भी डाल सकती है
  • ये खट्टे मीठे स्वाद से भरे सूजी के दही बड़े अपने बच्चे को सर्व करें

 

#7. आलू की कचौड़ी बनाने का तरीका (Aaloo Kachodi)

आलू की कचौड़ी बनाने का तरीका (Aaloo Kachodi)

सामग्री:

  • मैदा- 1 कप
  • सूजी- 3 कप
  • तेल- 2 बड़े चम्मच
  • पीला रंग- चुटकी भर
  • दूध- आटा गूंथने के लिए
  • नमक- स्वाद अनुसार
  • तेल- तलने के लिए
  • आलू- 5 से 6 उबले और मैश किए हुए
  • सौंफ- 2 छोटी चम्मच पिसी हुई
  • काली मिर्च पावडर- स्वादानुसार
  • अमचूर का पावडर- स्वादानुसार
  • चाट मसाला- स्वादानुसार
  • अदरक का पेस्ट- स्वादानुसार

 

विधि:

  • सबसे पहले आप एक परात में मैदा, सूजी लेकर उसमें नमक, पीला रंग और तेल मिलाकर दूध से आटा गूंथ लें
  • अब आप आलू में सारे मसाले डालकर अच्छे से मिला लें
  • अब गुंथे हुए आटे की छोटी-छोटी लोई बनाकर उसे बेल ले और उसमें आलू का मसाला भर कर उसको कचौड़ी जैसे आकर में बनाकर बंद कर दे
  • बंद करने के लिए उसके ऊपरी सिरे पर थोड़ा पानी लगाएं
  • अब आप गैस पर एक कढ़ाई रखकर तेल गरम करें और सारी कचौड़ी को धीमी आंच पर सुनहरी होने तक तले
  • गरमा-गरम आलू की कचौड़ीको हरी चटनी व मीठी चटनी के साथ अपने बच्चे को सर्व करें

 

#8. चंद्रकला उत्तर भारत की होली मिठाई (Chandrakala: Holi Recipe in Hindi)

चंद्रकला उत्तर भारत की होली मिठाई (Chandrakala: Holi Recipe in Hindi)

चंद्रकला उत्तर भारत की एक प्रसिद्ध मिठाई है यह होली और दीपावली पर खासतौर से बनाई जाती है यह दिखने में गुजिया की तरह होती है लेकिन स्वाद में दोनों में अंतर होता है चंद्रकला गोलाकार होती है और गुजियाँ अर्धचंद्राकार होती है

सामग्री:

  • मैदा- 2 कप
  • देसी घी- 6 से 7 बड़े चम्मच
  • खोया या मावा- 1/2 कप
  • सूजी- 2 बड़े चम्मच
  • चिरौंजी- 2 बड़े चम्मच
  • नारियल का बुरादा- 1/4 कप
  • इलायची पाउडर- 2 चम्मच
  • शक्कर या चीनी- 3/4 कप
  • केसर- 5 से 6 धागे
  • बादाम- 1/4 कप बारीक कटे हुए
  • काजू- 1/4 कप बारीक कटे हुए
  • पिस्ता- 1/4 कप बारीक कटे हुए
  • तेल- तलने के लिए
  • गुनगुना पानी- आटा गूंथने के लिए

 

विधि:

  • सबसे पहले आप गैस पर एक कढ़ाई रखकर उसमें थोड़ा सा घी डालकर गर्म करें
  • फिर उसमें आप सूजी डालकर हल्का गुलाबी होने तक सेंके
  • फिर इसमें नारियल का बुरादा डाले और उसके बाद सारे मेवे डालकर 2 मिनट के लिए भुने और गैस को बंद कर दें
  • सारे मेवे के हल्के गर्म होने पर इसमें आप इलायची पावडर, केसर, चिरौंजी, शक्कर डालकर अच्छे से मिलाएं
  • अब दूसरी कढ़ाई में शक्कर और तीन चौथाई कप पानी लेकर उबाले, जब जिसमें उबाल आ जाए तब गैस धीमा कर दें और चाशनी को पकने दें
  • एक तार की चाशनी तैयार कर लें फिर चाशनी में इलायची पाउडर और केसर डालकर गैस बंद कर दें
  • अब एक परात में मैदा छानकर उसमें गुन गुना पानी डालें और दोनों को अच्छे से मिलाएं
  • अब थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए आटे को गुंथे और गूंथने के बाद गीले कपड़े से ढक कर रख दें
  • आधे घंटे बाद आटे में लोच लगाकर छोटी-छोटी लोई बना ले और उन्हें बेल ले
  • फिर इसमें भरावन भरकर किनारे के चारों ओर पानी लगा कर किनारे बंद कर दें
  • ऐसे ही सारी चंद्रकला तैयार कर ले और फिर एक मोटी तली की कढ़ाई को गैस पर रखकर उसमें तेल गरम करें धीमी आंच करके सभी को तल ले
  • अब आप तैयार चंद्रकला को चाशनी वाले पानी में डालें और उसमें डाल कर निकाल ले
  • लो तैयार है स्वादिष्ट व पौष्टिक चंद्रकला मिठाई इसे अपने बच्चे को सर्व करें

 

नोट: चंद्रकला बनाते समय इसके आटे को गीले कपड़े से ढक कर रखें ताकि आटा सूखे नहीं

 

#9. बच्चों के लिए ठंडाई बनाने की विधि (How to Make Thandai in Hindi)

Thandai Recipe in Hindi

ठंडाई को होली का ऑरिजनल ड्रिंक कहते हैं। अगर आपके दिमाग में यह आ रहा है कि ठंडाई में भांग होती है तो आप गलत हैं। दरअसल ठंडाई वास्तविक रूप से गर्मी को कम करने और ठंडक प्रदान करने के लिए प्रयोग की जाती है और इसमें भाग नहीं मिलाई जाती है। भाग वाली ठंडाई अलग होती है। ठंडाई ड्राई फ्रूट्स से मिलकर बनता है और बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। अगर आपका बच्चा दूध नहीं पीता तो आपको यह अवश्य ट्राई करना चाहिए। आइये जानते हैं ठंडाई की रेसिपी (Thandai Recipe in Hindi)

सामग्री:

चीनी: 5 कप

बादाम: 1/2 कप से थोड़े ज्यादा (100 ग्राम)

सौंफ: 1/2 कप ( 50 ग्राम)

काली मिर्च: 2 छोटी चम्मच

खसखस: 1/2 कप (50 ग्राम)

खरबूजे के बीज: 1/2 कप (50 ग्राम)

छोटी इलाइची: 30-35 (छील लें)

गुलाब जलः 2 टेबल स्पून या गुलाब की पंखुड़ियां

 

ठंडाई बनाने की विधि

  • सबसे पहले बादाम, खसखस, खरबूजे के बीज, गुलाब की पत्तियां, सौंफ, काली मिर्च इलायची तथा मुनक्का को पानी में भिगो दें। सभी सामग्री को रात भर पानी में भीगने दें।
  • सुबह इसका पानी छान लीजिएं और बादाम को छिल लीजिएं।
  • सभी चीजों को बारीक पीस लीजिए। इन चीजों को पीसने के लिये पानी की जगह चीनी के घोल का प्रयोग कर सकते हैं। चीनी का घोल अगर गर्म पानी में बनाएंगे तो जल्दी बन जाएगा।
  • अब इस पीसे हुए घोल को छान लीजिएं। छनने के बाद जो पेस्ट बचेगा उसे फिर से पानी डालकर पीसना है। अगर आप पेस्ट थोड़ा टाइट है तो आप साफ कपड़े में लेकर इसका पानी निकाल लीजिएं।
  • अब फाइनली आपको पीसे हुए घोल को अच्छी तरह से मुलायम सूती के कपड़े में लेकर छानना है।
  • अब दो कप ठंडा दूध लें उसमें एक चम्मच पेस्ट डालें और ठंडा-ठंडा सर्व करें। आप चाहें तो इसमें केसर की पत्तियां भी मिला सकते हैं।
  • बचे हुए पेस्ट को आप एयर टाइट बॉक्स में बंद करके फ्रीज में रख सकती हैं।

 

याद रहे कि ठंडाई की तासीर ठंडी होती है इसलिए अगर होली के समय मौसम ठंडा है तो बच्चों को केवल थोड़ी मात्रा में ही दें। साथ ही ठंडाई का असली फायदा तभी मिलेगा जब आप ड्राई फ्रूट्स और बाकि साम्रगियों को कम से कम छ्ह घंटे तक पानी में भिगोकर रखेंगी। इसके पीछे यह वजह है कि बादाम और अन्य तीजों की तासीर गर्म होती है लेकिन पानी में भिगो कर रखने से उनकी गर्माहट खत्म हो जाती है। तो यह थे होली के व्यंजनों की रेसिपी (Holi Recipes in Hindi)। इन्हें घर पर अवश्य ट्राई करें और रंगों के इस त्यौहार से बच्चों को रूबरू कराएं।
इसे भी पढ़ेंः कैसे खेलें सेफ होली

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null