नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

नर्सरी एडमिशन हर माँ-बाप के लिए एक अहम पड़ाव होता है। यह एक ऐसा मौका होता है जब मां-बाप काफी सोच विचार में मग्न होते हैं। अक्सर कई बार इस सोच-विचार में हमारा पूरा फोकस केवल बच्चे के लिए अच्छा स्कूल खोजने पर चला जाता है और वह एडमिशन के लिए जरूरी कागजात रखना भूल जाते हैं। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि नर्सरी एडमिशन के लिए कौन-से कागजात (Documents for Nursery Admission) बेहद अहम होते हैं।

नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

जन्म प्रमाण पत्र जन्म प्रमाण पत्र स्कूल एडमिशन के लिए सबसे जरूरी चीज है। इसकी 4 कॉपी कराके हमेशा अपने पास रखें। कई स्कूल मूल जन्म प्रमाण पत्र रखवा लेते हैं इसलिए इसकी कॉपी करवा लें। जन्म प्रमाण पत्र को आप डिजिटल रूप में भी सेव करके अपने पास रख सकते हैं।

नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

आवास प्रमाण पत्र नर्सरी एडमिशन के लिए दूसरी आवश्यक चीज है माता-पिता का आवास प्रमाण पत्र। इसमें माता या पिता का आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, राशन कार्ड, पिछले महीने के बिजली का बिल, पानी का बिल, डोमिसाइल सर्टिफिकेट आदि प्रयोग किए जा सकते हैं।

नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

जाति प्रमाण पत्र हर स्कूल में कुछ सीटें अनुसूचित जाति या जनजातियों अथवा अन्य कोटे के लिए आरक्षित होती हैं। कई स्कूलों में बच्चे के स्थान पर माता या पिता का सर्टिफिकेट भी मान्य होता है। इन सीटों के बारें में स्कूल से पहले पता कर लें। अगर संभव हो तो बच्चे का भी जाति प्रमाण पत्र बनवा लें। कई स्कूलों में आय के आधार पर भी एडमिशन मिलता है जिसके लिए इनकम सर्टिफिकेट होना आवश्यक है।

नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

आधार कार्ड और पासपोर्ट साइज फोटो आजकल हर जगह आधार कार्ड को लगभग अनिवार्य कर दिया गया है। नर्सरी में एडमिशन से पहले बच्चे का आधार कार्ड अवश्य बनवा लें। इसके साथ बच्चे की कम से कम 10 पासपोर्ट साइज फोटो भी साथ रखें। फोटो आपको लगभग हर फॉर्म के साथ लगानी होगी।

नर्सरी एडमिशन से पहले इन कागजों को रखना ना भूलें

मेडिकल सर्टिफिकेट बच्चे की मेडिकल हिस्ट्री भी एडमिशन के समय काफी अहम होती है। कई स्कूल बच्चों के मेडिकल सर्टिफिकेट की मांग भी करते हैं जिसका फॉर्मेट अलग-अलग हो सकता है। एक अहम बात, अगर बच्चे को कोई बीमारी जैसे अस्थमा या दौरे आदि की परेशानी है तो स्कूल से इस बारें में अवश्य बनाएं ताकि किसी इमरजेंसी की स्थिति में वह बच्चे की मदद कर सके।