डेंगू में प्लेट्लेट्स तेजी से बढ़ाने के घरेलू उपाय

डेंगू में प्लेट्लेट्स तेजी से बढ़ाने के घरेलू उपाय

डेंगू उन बिमारियों में से एक है जो मच्छर के काटने से होती है। बरसात का मौसम आते ही मच्छरों के बढ़ने से इस बीमारी के फैलने की संभावना बढ़ जाती है। डेंगू जैसी भयंकर बिमारी मृत्यु का कारण भी बन सकती है। डेंगू में मनुष्य के खून में प्लेटलेट्स (Platelets) बहुत तेज़ी से कम होते हैं। एक तंदुरूस्त मनुष्य के शरीर के खून में डेढ़ लाख से लेकर चार लाख तक प्लेटलेट होते हैं लेकिन डेंगू जैसे रोग में प्लेटलेट कम होने के कारण इनकी संख्या डेढ़ लाख से कम हो जाती है। डेंगू का अभी कोई उचित उपचार या दवाई उपलब्ध नहीं है इसलिए डॉक्टर रोगी को ग्लूकोस देने, एंटीबायोटिक इंजैक्शन आदि लगाने के साथ-साथ उसे अपने आहार में सावधानी बरतने की सलाह देते हैं। प्लेटलेट में सुधार भी डेंगू के उपचार का महत्वपूर्ण हिस्सा है और खून में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने के लिए आहार मुख्य भूमिका निभाता हैं। आइयें जानें कुछ ऐसे आहार (Best Foods To Increase Platelets Count) जो खून में प्लेट्लेट्स की संख्या बढ़ाते हैं।

 

डेंगू में प्लेट्लेट्स तेजी से बढ़ाने के घरेलू उपाय (Best Foods To Increase Platelets Count in Hindi)

#1. चुकंदर (Beetroot)
चुकंदर प्लेटलेट को बढ़ाने का सबसे बेहतरीन उपाय हैं। चुकंदर एंटीऑक्‍सीडेंट हैं और इसके साथ ही इसे खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं। चुकंदर का नियमित सेवन करने या इसका रस पीने से खून में प्लेटलेट्स की संख्या में बहुत कम दिनों में ही वृद्धि हो जाती है। बिना किसी रोग के भी चुकंदर का रस पीना या चुकंदर सलाद के रूप में खाना बेहद फायदेमंद होता हैं। कुछ चम्मच चुकंदर के रस को गाजर के जूस में मिला कर पीने से भी प्लेटलेट्स बहुत जल्दी बढ़ते हैं या एक-दो चम्मच चुकंदर के रस को दिन में तीन बार पीने से फायदा होता है।

#2. तिल का तेल (Sesame oil)
प्लेटलेट्स को बढ़ाने के लिए तिल के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। दिन में दो या तीन चम्मच तिल के तेल का सेवन करें या खाने में इसका इस्तेमाल करें। लसीका ग्रंथि के बाहर इस तेल से मालिश करने से भी इस रोग में लाभ होता है।
Also Read: Home Remedies for Cough and Cold Due to Pollution

#3. बकरी का दूध (Goat’s Milk)
डेंगू में प्लेटलेट की संख्या को बढ़ाने के लिए बकरी के दूध में सभी गुण होते हैं। डेंगू में फायदे के लिए बकरी के कच्चे दूध को थोड़ा-थोड़ा रोगी को पिलायें। बकरी का दूध (Goat’s Milk) पीने में भले ही स्वादिष्ट न हो लेकिन अपने लाखों गुणों के कारण डेंगू में यह सर्वोत्तम औषधि से कम नहीं है।

 

#4. गिलोय (Giloy)
गिलोय के सेवन से भी खून में प्लेटलेट बढ़ते हैं और साथ ही इम्यूनिटी भी बढ़ती है। डेंगू होने पर रोजाना गिलोय का सेवन करने से प्लेटलेट में बढ़ोतरी होने लगती है। प्लेटलेट बढ़ाने के लिए गिलोय से बेहतर और कोई उपाय नहीं है। गिलोय के पत्तों का काढ़ा बना कर रोगी को पिलायें या गिलोय को पानी में भिगो कर रख कर सुबह उस पानी को रोगी को पिलायें। हर स्थिति में रोगी को फायदा होगा। गिलोय की बेल न मिलने की स्थिति में बाजार में मिलने वाली गिलोय घनवटी भी रोगी को दी जा सकती है।

Also Read:  Brain Developoment Tips for Kids 

 

#5. पपीता (Papaya)
खून में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने में पपीते के साथ साथ इसकी पत्तियां भी उपयोगी हैं। पपीते या इसके पत्तों का जूस बना कर रोगी को पिलायें। पपीते की पत्तियों का काढ़ा बना कर भी प्रयोग किया जा सकता है। पपीते का फल ऐसे ही रोगी को खाने के लिए दिया जा सकता है।

 

#6. मेथी के पत्ते (Fenugreek Leaves)
मेथी के पत्ते न केवल शरीर से हानिकारक तत्वों को बाहर निकालते हैं बल्कि डेंगू के वायरस को ख़त्म करने में भी सहायक हैं। मेथी की पत्तियों को पानी में कुछ देर भिगो कर रखें और उसके बाद इसके बाद उसका पानी रोगी को पीने को दें या इसके पत्तों को चाय के रूप में भी पिया जा सकता है। इससे डेंगू में प्लेटलेट बढ़ेगी और बीमार व्यक्ति को कुछ राहत मिलेगी।

Also Read:  Home Remedies for Cold in Kids 

 

#7. पालक (Spinach)
पालक विटामिन-के (Vitamin K) से भरपूर होता है और प्लेटलेट कम होने पर पालक का सेवन करना बेहतरीन माना जाता है। पालक के पत्तों को पानी में भिगो कर रखें और उसके बाद उस पानी को रोगी को पीने को दें। डेंगू में रोगी के खून में प्लेटलेट बढ़ाने के लिए पालक का प्रयोग सूप, सलाद या सब्जी के रूप में भी किया जा सकता है।


#8. नारियल पानी (Coconut Water)
नारियल पानी एक ऐसा पेय है जो स्वादिष्ट होने के साथ साथ कई गुणों का खजाना है। नारियल पानी इलेक्ट्रोलाइट्स (Electrolytes) से भरपूर होता है और इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होती। इसके अलावा यह ब्लड प्लेटलेट्स को बढ़ाने में भी सहायक है।

 

#9. कीवी,ड्रैगन फ्रूट और अनार (Kiwi, Dragon Fruit and Pomegranate)
कीवी विटामिन सी, विटामिन ई और पॉलीफेनोल (Polyphenols) से भरपूर होती है। डेंगू होने पर रोजाना कीवी खाने प्लेटलेट की संख्या जल्दी बढ़ती है। ऐसे ही अनार भी आयरन से भरपूर होता है जिससे हीमोग्लोबिन (Haemoglobin) और प्लेटलेट की संख्या बढ़ती है। अनार को जूस के रूप में भी लिया जा सकता है लेकिन रोगी को देने के लिए जूस उसी समय ताज़ा निकालना चाहिए और डिब्बाबंद अनार का जूस न दें। ड्रैगन फ्रूट का सेवन भी डेंगू में प्लेटलेट की संख्या बढ़ाने में लाभदायक है।

 

#10. पानी (Water)
पानी की कमी होने से कई रोगों की संभावना होती है और पानी उचित मात्रा में पीने से शरीर कई बीमारियों से मुक्त रहता है और साथ ही शरीर के दूषित और हानिकारक तत्व भी बाहर निकल जाते हैं। डेंगू होने पर पानी अधिक पीने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे मरीज़ के शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। रोगी के लिए रोजाना कम से कम दस गिलास पानी पीना आवश्यक है।

 

#11. कद्दू (Pumpkin)
कद्दू प्लेटलेट की संख्या में सुधार करने वाली उपयोगी सब्जी है। यह कोशिकाओं में पैदा की गयी प्रोटीन को नियंत्रित करता है, जो प्‍लेटलेट के स्‍तर को बढ़ाने के लिए लाभकारी है। कद्दू का जूस रोगी को पिलायें या कद्दू की सब्जी बना कर रोगी को खाने को दें। इससे डेंगू में लाभ होगा और प्लेटलेट बढ़ेंगे।

 

#12. आंवला (Gooseberry)
प्लेटलेट को बढ़ाने के लिए आंवला उचित आहार है। आंवला विटामिन सी का उपयुक्त स्रोत है इससे प्लेटलेट तो बढ़ते ही हैं साथ ही इम्यूनिटी भी बढ़ती है। रोगी को आंवला खाने को दें या उसका जूस भी दिया जा सकता है। बाजार में भी आयुर्वेदिक आंवला जूस उपलब्ध है।

Also Read: Home Remedies for Kids Running Nose in Hindi

 

उपरोक्त फल और आहार डेंगू के बुखार के दौरान प्लेटलेट्स बढ़ाने (Best Foods To Increase Platelets Count) में सहायक होते हैं। इसके साथ ही डेंगू में रोगी को हल्का और ताज़ा बना हुआ भोजन देना चाहिए। डेंगू में तेल, मिर्च-मसाले या नमक वाली चीज़ों से भी दूर रहना चाहिए। अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करना रोगी को जल्दी स्वस्थ करने में सहायक है। उपरोक्त आहारों को आप बच्चों को भी दे सकती हैं लेकिन याद रखें अगर बच्चे तीन साल से छोटे हैं तो कोई भी चीज खाने के लिए देने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null