बच्चों के लिए सेरेलेक के 10 मुख्य विकल्प

बच्चों के लिए सेरेलेक के 10 मुख्य विकल्प

शिशु के बढ़ने के साथ ही उसकी शारीरिक ज़रूरतों में भी परिवर्तन आता है। माँ के दूध या केवल दूध से शिशु का पेट नहीं भरता, ऐसे में बहुत आवश्यक है कि शिशु को कुछ ऐसा आहार दिया जाए जिससे न केवल उसकी भूख शांत हो बल्कि उसे सभी पोषक तत्व भी प्राप्त हों। आमतौर पर जैसे ही शिशु छः महीने का होता है तो हम उसे सेरेलेक देना शुरू करते है जो बाजार में कई जायकों में उपलब्ध हैं। सेरेलेक को सालों से हम बच्चों को देते आ रहे हैं और बरसों से लोगों की अपेक्षाओं पर खरा उतरा है। हालांकि इसे देने से कई बार बच्चों को कब्ज या एलर्जी जैसी समस्याएं भी हो जाती हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि वो कौन से ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें हम सेरेलेक के विकल्प के रूप में प्रयोग में कर सकते हैं। तो आइयें जानें सेरेलेक के अन्य विकल्प (Alternative to Baby Cerelac) क्या है।

 

आखिर सेरेलेक का क्या है विकल्प (Alternative to Baby Cerelac in Hindi)

1) घर का बना सेरेलेक (Homemade Cerelac)
बाजार में बना सेरेलेक प्रयोग में आसान होता है लेकिन इसका प्रयोग बच्चे के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ सिद्ध हो सकता है, इसलिए इसका एक विकल्प है- घर में बना सेरेलेक, जिसे आप आसानी से बना सकती है।

 

इसके लिए 1 -1 कप विभिन्न अनाज जैसे रागी, बाजरा, गेहूँ, मक्की आदि लें और कुछ दालों जैसे मूंग की दाल, चना दाल, उड़द की दाल आदि को इकट्ठा कर लें। इन सभी सामग्रियों को रात भर पानी में भिगो के रखें और अगले दिन उनसे पानी निकाल कर इन्हें धूप में सूखा लें। अब इन्हें भून लें। इसके बाद इस भुनी हुई सामग्री को पीस कर बारीक़ कर लें और किसी डिब्बे में डाल कर रख लें। जब शिशु को सेरेलेक खिलाना हो तो इस सामग्री के दो चम्मच निकालें। एक कढ़ाई में इसे फिर से थोड़ा सा भुने। अब इसमें थोड़ा पानी डालें और कुछ देर पकाएं। चीनी मिला कर शिशु को खिलाएं। अगर आप चाहे तो सूखे मेवों को भी पीस कर इसमें मिक्स कर सकते हैं। हालाँकि इसे बनाने में आपको थोड़ा कष्ट करना पड़ेगा लेकिन आपके शिशु के लिए इससे सर्वश्रेष्ठ आहार और कुछ नहीं हो सकता।

Also Read: Homemade Cerelac Recipe in Hindi

 

2) सूजी की खीर (Semolina Kheer)
सूजी की खीर भी सेरेलेक का अच्छा विकल्प है। इसे बनाना बेहद आसान है। एक बर्तन जैसे कढ़ाई में घी डालें( अगर आप चाहे तो बिना घी के भी बना सकती हैं) और उसमे सूजी डाल कर उसे अच्छे से भुन लें। अब इसमें दूध डाल कर इसे फिर से अच्छे से पकने दें और बीच-बीच में चलाते रहें। अंत में चीनी डालकर फिर से कुछ देर और पकाएं। सूजी की खीर तैयार है।

 

3) गेहूं का दलिया (Wheat Porridge)
गेहूं का दलिया शिशु के स्वास्थ्य के लिए बेहतरीन आहार है। इसे बनाने के लिए भी पहले कढ़ाई में थोड़ा दलिया डाले और उसे भुन कर उसके बाद उसमे पानी या दूध डाल कर पकाएं। अपनी इच्छा के अनुसार चीनी या नमक डाल कर शिशु को खिलाएं।

 

4) पोहा (Poha)
पोहा न केवल पौष्टिक होता है बल्कि शिशु के लिए भी यह चबाने और पचाने में आसान है। शिशु को दिये जाने वाले अधिकतर आहार मीठे होते हैं ऐसे में आप नमकीन पोहा शिशु के लिए बना सकती हैं। शिशु को यह नया स्वाद अवश्य पसंद आएगा । इसके लिए आप पोहे को थोड़ा सा उबाल कर उसमे नमक डाल कर बच्चे को खिलाएं या मीठा बनाना चाहती हैं तो पोहे की खीर बनाकर भी शिशु को खिला सकती है।

Also Read: Foods to Improve Kids Immunity

 

5) मूंग की खिचड़ी (Mung Khichadi)
मूंग की खिचड़ी शिशु के लिए अच्छा आहार है। यह हलकी होती है जिससे यह आसानी से बच्चे को पच जाती है। इसके लिए थोड़ी सी मूंग की दाल और चावल ले कर उन्हें उबालें और फिर उसमे थोड़ा सा नमक मिला लें। मूंग की खिचड़ी खाने के लिए तैयार है।

 

6) शकरकंद और केले की प्यूरी (Sweet Potato and Banana Puree)
केला और शकरकंद शिशु की सेहत के लिए बेहद लाभदायक है क्योंकि इनसे शिशु को वो सभी पौष्टिक तत्व प्राप्त होते हैं जो बच्चे के लिए आवश्यक है। केले को मैश कर के बच्चे को खिला सकते हैं या उसमे थोड़ा दूध डाल कर भी बच्चे को दिया जा सकता है। शकरकंद को भुने या उबाले उसके बाद उसे दूध में मैश कर दें। अगर आप चाहे तो इसमें थोड़ी चीनी भी मिला सकते हैं। यह शिशु के लिए बेहद स्वादिष्ट आहार है। ऐसे ही आप कद्दू या गाजर की प्यूरी भी बना सकते हैं।

 

7) सूजी का उपमा (Semolina Upma)
सूजी का उपमा बनाने में आसान है। इसे आप अपने बच्चे को आसानी से खिला सकती हैं। इसे बनाने के लिए पहले सूजी को भूनना है उसके बाद उसमें पानी डाल कर इसे पकाना है। उसमे नमक डाल कर शिशु को खिला दें। आप चाहे तो इसमें सब्ज़ियाँ डाल सकते हैं बस ध्यान रहे कि सब्ज़ियाँ बिलकुल नरम हों ताकि शिशु आराम से खा और पचा सके।

Also Read: How to Investment for Kids Future

 

8) दही-चावल (Curd-Rice)
दही-चावल एक ऐसा आहार है जो बच्चों ही नहीं बल्कि बड़ों के लिए भी बेहद लाभदायक है। दही चावल से पाचन तंत्र सही रहता है। इसके लिए आपको कुछ खास भी नहीं करना है बस कुछ चावल उबालिये और उसमे दही मिक्स कर दें। इसे ऐसे भी बच्चे को खिला सकती हैं या चाहे तो इसमें थोड़ी चीनी या नमक मिक्स कर के भी इसे खिलाया जा सकता है।

 

9) ज्वार के आटे का दलिया
शिशु बहुत जल्दी एक ही तरह का खाना खा कर ऊब जाता है इसलिए आप रोज़ नयी नयी डिशेस बना कर शिशु को खाने के प्रति आकर्षित कर सकती हैं। इस व्यंजन को बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में ज्वार के आटे को भुने। दूसरे बर्तन में गुड़ के पानी में पीसी हुई मूंगफली मिक्स कर लें और इसके बाद इस पानी को भुने ज्वार के आटे में डाल कर पका लें। पकने के बाद यह आटे का दलिया शिशु को खाने के लिए दिया जा सकता है।

 

10) दाल या दाल का पानी (Lentil or Lentil water)
किसी भी बिना छिलके की दाल को अच्छे से उबालें ताकि वो दाल इसमें अच्छे से घुल जाए। अब इस दाल में थोड़ा सा नमक मिला कर बच्चे को खिलाएं या इसके पानी को अलग कर के भी बच्चे को दिया जा सकता है। इसके अलावा आप बच्चे के लिए बाजरे की खिचड़ी, मीठा ढोकला, ज्वार का उपमा, रागी का डोसा आदि भी बना कर शिशु को खिला सकती हैं।

Also Read: How to Stop Breastfeeding

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null