क्या आप जानती हैं वाटर बर्थ या पानी में प्रसव करवाना क्या होता है?

क्या आप जानती हैं वाटर बर्थ या पानी में प्रसव करवाना क्या होता है?

लोगों मानना है कि मातृत्व एक महिला को पूरी तरह से बदल सकता है हालांकि जब एक महिला के गर्भ में बच्चा पल रहा होता है तब उसके जीवन में कुछ ऐसे पल आते हैं जो अच्छे और यादगार बन जाते हैं। जब आपका बच्चा इस दुनिया में आता है तो उससे ज्यादा यादगार दिन आपके लिए कोई नहीं होगा। एक बच्चे को जन्म देना बहुत ही जटिल प्रक्रिया है परंतु साथ ही साथ यह खूबसूरत एहसास भी है। पानी में प्रसव करवाना महिलाओं में ज्यादा लोकप्रिय नहीं है परंतु यह धीरे-धीरे आजकल प्रचलन में आ रहा है। तो आइए जानते हैं कि वाटर बर्थ (Water Birth) क्या होता है।

 

वाटर बर्थ व पानी में प्रसव करवाना क्या होता है? (What is Water Birth in Hindi)

शिशु को पानी में जन्म देना एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें मां एक गर्म पानी से भरे टब में या फिर बड़ी बाल्टी में शिशु को जन्म देती है। हालांकि शिशु को पानी में जन्म देना भारत में इतना लोकप्रिय नहीं है परंतु बहुत महिलाएं इस तरीके के बारे में जानने लगी है। कुछ महिलाएं दर्द के समय पानी में रहती हैं और प्रसव के समय पानी से बाहर आ जाती है। परंतु कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो प्रसव के समय भी पानी में ही रहती है। शिशु को पानी में जन्म देते (pani mein delivery) समय एक डॉक्टर का उपस्थित होना जरूरी होता है।

इसे भी पढ़ेंः जानें कितने प्रकार से होती है डिलीवरी

 

वाटर बर्थ के फायदे (Benefits of Water Birth in Hindi)

आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि पानी में प्रसव के शिशु और मां को क्या फायदे होते होंगे। यह माना जाता है कि पानी में जन्म देने से शिशु को कोई परेशानी नहीं होती क्योंकि शिशु मां के गर्भ में एमनीओटिक द्रव से घिरे हुए होते हैं और यह मां के लिए भी कम तनावपूर्ण होता है। डॉक्टर या चिकित्सा विशेषज्ञों की मानें तो शिशु को पानी में जन्म देने से भ्रूण जटिलताएं और अन्य दिक्कतें कम होती है।

 

पानी में प्रसव के अन्य फायदे (Other Benefits of Water Birth in Hindi)

  • गर्म पानी से स्ट्रेस मसल्स को आराम मिलता है।
  • अध्ययनों से यह पता चला है कि प्रसव के समय पानी से मां में अलग ऊर्जा उत्पन्न होती है।
  • पानी में प्रसव के समय मां का भार कम होता है जिससे वह आराम से हिल डुल सकती है जबकि बिस्तर पर हिलना डुलना मुश्किल होता है।
  • पानी हाई ब्लड प्रेशर को कम करता है।
  • पानी से गुदा और योनि के बीच का हिस्सा लोचदार होता है जो कि अत्यधिक दर्द को कम करता है।
  • पानी से दर्द भी कम होता है और रक्त परिसंचरण में भी सुधार आता है।
  • पानी में रहने से मां को आराम मिलता है जिससे उसे दर्द कम होता है।

 

क्या पानी में प्रसव करना खतरनाक है? (Risks of Water Birth in Hindi)

अमेरिकन प्रेगनेंसी एसोसिएशन के मुताबिक महिलाओं को पानी में प्रसव के बारे में बहुत कम जानकारी है परंतु आखिरी 30 सालों में कई महिलाओं ने इसे अपनाया है। रॉयल कॉलेज ऑफ ऑब्सटेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट में एक लेख छापा गया था जिसमें लिखा था कि ऐसी अवस्था भी आ सकती है जिसमें पानी मां के खून में चला जाता है हालांकि यह बहुत कम होता है। इस प्रक्रिया को वाटर एंबॉलिज्म (Water Embolism) कहा जाता है।

 

यह भी हो सकता है कि जन्म के समय शिशु को बर्थ कैनाल में जटिलताओं का सामना करना पड़ रहा है या अगर गर्भनाल मुड़ जाए तो वह हवा के लिए हांफने लग जाता है। शिशु जब तक माँ के साथ गर्भनाल से जुड़े होते है तब तक वे उसी से साँस लेते हैं लेकिन उसके मुड़ने पर उन्हें साँस लेने में दिक्कत महसूस हो सकती है।

 

शिशु को एक तरह का खतरा और होता है, शिशु के जन्म के तुरंत बाद गर्भनाल टूट भी सकती है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि शिशु को ध्यान से मां की छाती की तरफ ले जाया जाए।

इसे भी पढ़ेंः नॉर्मल डिलीवरी कैसे होती है?

पानी में प्रसव की तैयारी कैसे करें? (How to get ready for a water birth)

  • वैसे ज्यादातर महिलाएं जो पानी में प्रसव करना चुनती हैं वह घर पर ही यह करना पसंद करती है परंतु आप यह करने से पहले डॉक्टर से जरूर बात करें।
  • अगर आप अस्पताल में अपने शिशु को जन्म देना चाहती है तो पहले सुनिश्चित कर ले कि अस्पताल पानी में प्रसव करने की अनुमति देता है या नही।
  • एक बड़ा टब जरूर खरीद लें और ध्यान दें कि प्रसव की जगह खाली और बड़ी होनी चाहिए ताकि आपको बाहर आने में कोई दिक्कत ना हो।
  • अपने डॉक्टर से सलाह लें कि क्या आप अपने बच्चे को इस तरह जन्म दे सकती हैं या नहीं।

 

पानी में प्रसव की प्रतिकूल स्थितियां (When to Avoid Water Birth)

  • अगर आपके दाद है तो हो सकता है कि यह आपके बच्चे को भी हो।
  • अगर आपका ज्यादा खून बह रहा हो तो पानी में प्रसव से बचे।
  • अगर आपके बच्चे का जन्म समय से पहले हो रहा हो तो पानी में प्रसव करना खतरे से भरा हो सकता है। ऐसे में उन्हें ज्यादा देखभाल और ध्यान की जरूरत होती है।
  • अगर आपकी जुड़वा या उससे अधिक बच्चे हो रहे हो तो पानी में जन्म देना थोड़ा जोखिम भरा हो सकता है। ऐसे में सामान्य प्रसव ही सही विचार रहेगा।

इसे भी पढ़ेंः प्रेगनेंसी में आम शारीरिक बदलाव

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null