बच्चों के पेट में कीड़े पड़ने के कारण, लक्षण व उपाय

बच्चों के पेट में कीड़े पड़ने के कारण, लक्षण व उपाय

बच्चों के पेट मे कीड़े होना बहुत ही आम बात है। अगर आपके बच्चे के पेट में कीड़े हैं तो परेशान होने या घबराने की कोई बात नही है। बहुत से तरीके (Home Remedies for Stomach Worm) है जिनकी मदद से बच्चों के पेट के कीड़ों (Bachcho ke Pet ke Kide) को खत्म किया जा सकता है। आइयें जानते हैं बच्चों के पेट में कीड़े पड़ने के कारण और कीड़े दूर करने के घरेलू उपाय।

पेट में कीड़े होने के कारण (Causes of Stomach Worm & Roundworm in Hindi)

छोटे बच्चों के पेट में कीड़े या क़ुर्ज़ का संक्रमण कई वजह से हो सकता हैं, जैसे कि:
  • किसी दूसरे व्यक्ति से संक्रमित
  • मिट्टी में नंगे पांव चलने से
  • गंदे पानी में खेलने से
  • गली के जानवरो को छूने से
  • गंदे हाथो को मुँह में डालने से
  • बाहर का जंक फ़ूड खाने से
  • सब्जियों या फलो को बिना धोये खाने से
  • या गन्दा पानी पीने से इत्यादि
जब यह कीड़े पेट में अंडे देते हैं तो यह और भी ज्यादा बढ़ जाते हैं और शिशु के शरीर में और अंडे दे देते हैं। इनकी संख्या भी बहुत जल्दी बढ़ती हैं। कीड़ों के अलग-अलग इन्फेक्शन होते हैं जिनमें पिनवर्म एक हैं जिसे थ्रेडवर्म भी कहा जाता है। पिनवर्म (Pinworm) के अलावा भारत में हुकवर्म, राउंडवर्म (Roundworm) व व्हिपवर्म इंफेक्शन भी आम बात है। पिनवर्म छोटे बच्चों को प्रभावित करने वाले सबसे आम प्रकार के कीड़े हैं। यह मोटे घोंगे के जैसे दिखते हैं व इनकी लंबाई करीब स्टेपल पिन जितने तीन मि मी. से दस मि मी. तक होती है। बच्चों में इनके इन्फेक्शन का पता लगाना बहुत मुश्किल है लेकिन राहत की बात यह है कि इन से पीछा छूटा पाना भी बहुत आसान है और आप अपने बच्चों को इनके इन्फेक्शन से बहुत कम समय में आजाद करा सकते हैं। इसे भी पढ़ें: बच्चों का मुंडन कब और क्यों करवाएं और इसके 5 लाभ

पेट में कीड़े होने के लक्षण (Pet ke Kide Hone ke Lakshan)

शिशु को कौन सा संक्रमण हुआ है व यह कितना गंभीर है, इसे देखते हुए बच्चों में कुछ आम संकेत या लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि: #1. पेट में दर्द होना #2. वजन घटना #3. चिड़चिड़ापन होना #4. गले से खून आना #5. खुजलाहट की वजह से ठीक से नींद ना आना #6. उल्टी या खांसी के जरिए कीड़ा बाहर निकल आना #7. गूदा के आसपास खुजली या दर्द होना #8. जीभ सफेद होना #9. गुप्तांग पर खुजली आना #10. मूत्र मार्ग संक्रमण (यू.टी.आई) की वजह से बार-बार पेशाब आना (यह लड़कियों में आम है) #11. आंतरिक रक्तस्नाव से आयरन की कमी और एनीमिया होना #12. बच्चों को उसके आहार से पोषक तत्व नहीं मिल पाना #13. बच्चों को दस्त लगना #14. भूख न लगना इत्यादि। गंभीर परिस्थितियों में अगर कीड़ों की संख्या बढ़ जाए तो आंतो में अवरोध भी हो सकता है। बहुत दुर्लभ मामलों में गंभीर टेपवर्म इंफेक्शन की वजह से दौरे भी पड़ सकते हैं। दांत पीसने को पेट में कीड़े (Bachhon Ke Pet Mein Kide) होने का सबसे बड़ा संकेत समझा जाता है।  बच्चों के पेट में कीड़े की दवा (Bachho Ke Pet Mein Kidde ki Dawa) देने से पहले आपको कुछ घरेलू उपायों पर भी ध्यान देना चाहिए। कई बार बच्चों के पेट में कीड़े घरेलू उपायों से ही दूर हो जाते है। इसे भी पढ़ें: 1 से 3 साल के बच्चों को खुद खाने की आदत कैसे डालें?

पेट के कीड़ों के इलाज के लिए घरेलू उपाय (Home Remedies for Stomach Worms in Hindi)

पेट में कीड़े होने पर आप ज्यादा घबराइए नहीं। कुछ घरेलू तरीके (Pet ke Kide ke liye Gharelu Upay) अपनाकर आप अपने बच्चे को इस समस्या से छुटकारा दिला सकती हैं: #1. अपने बच्चे को दो से तीन चम्मच अनार का रस हर रोज पिलाये। #2. शहद को दही में मिलाकर सुबह-शाम अपने बच्चे को 4 से 5 दिन तक खिलाये। #3. एक चम्मच करेले के रस को एक गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पिलाये। #4. तुलसी की पत्तियों का रस भी दिन में दो बार लेने से आराम मिलता है। #5. आधा चम्मच हल्दी को तवे पर भून कर, सोने से पहले पानी के साथ अपने बच्चे को दे। #6. लस्सी में पिसी हुई काली मिर्च और काला नमक मिलाकर चार से पांच दिन तक पीने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं। #7. टमाटर काट कर उस पर सेंधा नमक व थोड़ी हल्दी डालकर खिलाये। हर रोज़ सुबह इस उपाय को करने से फायदा मिलता है। #8. दो से तीन दिन तक आधा चम्मच आंवले का रस पीने से पेट के कीड़ों से छुटकारा मिलता है। #9. थोड़ा काला नमक आधा ग्राम अजवाइन के चूर्ण में मिलाकर हल्के गर्म पानी के साथ रात को सोने से पहले लेने से बच्चों के पेट के कीड़े खत्म हो जायेंगे। #10. हींग पाउडर को गुनगुने पानी में मिलाकर, रोजाना सुबह अपने बच्चे को दे। पेट में कीड़े पड़ने (Bachho Ke Pet mein Kide) से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है कि साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। कुछ भी खाने और पीने से पहले अपने बच्चे को हाथ धोने को बोले, खाने की चीज़ों को ढक कर रखें और सड़क किनारे मिलने वाले जंक फूड, कटे हुए फल खाने से बचें, अपने नाखून छोटे रखें, सब्जी बनाने से पहले अच्छे से हाथ धोएं, घर में यदि पालतू जानवर है तो उसे साफ रखें, ज्यादा मीठा चॉकलेट, टॉफी खाने से परहेज करें, कपड़े और तौलिये को इस्तेमाल करने से पहले उसे साफ रखें। आपकी थोड़ी सी सावधानी से बच्चे इस बीमारी से बच सकते हैं।   यहां यह अवश्य ध्यान दें कि उपरोक्त बच्चों के पेट के कीड़े दूर करने के घरेलू उपाय लोक जनमानस में काफी प्रचलित हैं और यह हमें कुछ माओं के अनुभव से ज्ञात हुआ है। इनका असर व्यक्ति दर व्यक्ति अलग हो सकता है। इसे अपनाने से पहले डॉक्टर या किसी विशेषज्ञ से अवश्य सलाह लें।  क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null

null