बच्चो को शहद देने के 15 मुख्य फायदे

बच्चो को शहद देने के 15 मुख्य फायदे

शहद एक महत्वपूर्ण औषधि हैं जो हम पुराने समय से प्रयोग करते आ रहे हैं| इसका प्राकृतिक दवा के रूप में इस्तेमाल भी होता हैं क्योंकि बच्चों को ज्यादा मीठा नहीं दे सकते हैं| इसलिए हम शहद से बनी हुई दवा या नुस्खों का प्रयोग कर सकते हैं जो मीठा भी होता हैं और बच्चों को आसानी से दवा के रूप में दे भी सकते हैं| यह बच्चों के पोषण के लिए अत्यंत आवश्यक हैं| इसे बच्चों के साथ बड़े लोग भी पसंद करते हैं और आनंद लेकर खाते हैं| तो आइयें जानते हैं बच्चों के लिए शहद खिलाने से क्या फायदे  (Benefits of Honey in Hindi) होते हैं।

शिशु को शहद किस उम्र में देना चाहिए और क्यों?

शिशु को शहद 1 साल से पहले बिल्कुल नहीं देना चाहिए क्योंकि आमतौर पर 6 महीने से कम आयु के शिशु में बोटुलिज़्म होता हैं| भोजन में पूर्व-निर्मित विषाक्त पदार्थों को खाने के कारण होने वाले बोटुलिज़्म से अलग, नवजात बच्चों में बोटुलिज़्म तब होता है जब बच्चे क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम के बीजाणुओ को निगल लेता हैं जो कि पेट में अंकुरित होते हैं और विष को स्त्रावित करते हैं|

अधिकतर व्यस्को और 1 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में यह नहीं होता है क्योंकि समय के साथ विकसित होने वाली रोग-प्रतिरोधक शक्ति जीवाणुओं के अंकुरण व विकास को रोकती हैं| इसलिए डॉक्टर भी 1 वर्ष से कम आयु वाले शिशु को शहद खिलाने के लिए मना करते हैं लेकिन 1 साल से अधिक आयु के बच्चों को आप शहद दे सकती हैं|

इसे भी पढ़ें: बच्चों में दिमागी शक्ति बढ़ाने के 10 मुख्य आहार

शहद से होने वाले लाभ (Benefits of Honey for  Kids in Hindi)

#1. खून की कमी (Uses of Honey in Anemia)

आपके बच्चे के लिए शहर बहुत ही लाभकारी हैं| यह आपके बच्चे के शरीर पर अलग-अलग तरह से असर डालता हैं| शहद और गुनगुने पानी का मिश्रण खून में हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाता हैं जो खून की कमी को कम करता हैं| शहद खून की ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता को बढ़ाते हुए इन समस्याओं को कम कर सकता हैं| यह रक्त में लौह तत्व की कमी को भी पूरा करता हैं|

 

#2. चीनी से ज्यादा फायदेमंद (Honey is Natural Sugar)

शहद में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज होता हैं जो बच्चों के लिए काफी फायदेमंद होता हैं| शहद मीठा होते हुए भी अधिक हानिकारक नहीं हैं| इसे चीनी की जगह प्रयोग किया जा सकता हैं|

 

#3. एंटीबैक्टीरियल व एंटीसेप्टिक (Antibacterial Facts of Honey in Hindi)

शहद आपके बच्चे के शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाता हैं| शहद का सेवन लाभदायक एंटीऑक्सीडेंट तत्वों की संख्या में बढ़ोतरी करता हैं| घाव पर लगाने के लिए भी शहद फायदेमंद है क्योंकि इसको लगाने से घाव के अंदर का सारा बैक्टीरिया नष्ट हो जाता हैं|

 

#4. सर्दी जुखाम में लाभकारी (Honey Benefits for Cold in Hindi)

अगर आपका बच्चा सर्दी-जुकाम से परेशान हैं तो आप रोज सुबह काली मिर्च, शहद और हल्दी को मिलाकर उसे दे| शहद त्वचा की एलर्जी दूर करने में भी सहायक हैं|

 

#5. एनर्जी फूड

शहद एक बलवर्धक औषधि हैं क्योंकि इसमें कम मात्रा में बहुत से विटामिन और मिनरल्स होते हैं| इसके अतिरिक्त इसमें कैल्शियम, कॉपर, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम और जिंक शामिल होता हैं|

 

#6. पाचक के रूप में

शहद आपके बच्चे के पेट के लिए बहुत ही लाभकारी हैं क्योंकि यह कब्ज, पेट फूलने और गैस तीनों के लिए रामबाण हैं| शहद का इस्तेमाल आंतों में फंगस के विषैले प्रभावों को कम करने के लिए भी किया जाता हैं|

 

इसे भी पढ़ें: देसी घी से बनने वाले ५ स्वादिष्ठ भारतीय व्यंजन

#7. संक्रमण से लड़ने में उपयोगी

आपके बच्चे की त्वचा और सिर के लिए शहद बहुत फायदेमंद हैं| शहद देने से बच्चों को नींद भी अच्छी आती हैं| जिस पर एंटीबायोटिक का असर नहीं होता उस पर यह बैक्टीरिया से लड़ने में प्रभावकारी साबित होता हैं| यह कई स्तरों पर संक्रमण से लड़ता हैं| यह भोजन में पैदा होने वाले जीवाणुओं को नष्ट कर सकता हैं|

#8. मुहासों का इलाज

बच्चे जब बड़े होते हैं तो मुहांसों की दिक्कत आम होती हैं| ऐसी स्थिति में दही में शहद को मिलाकर पेस्ट बना लें और 15 मिनट के लिए बच्चो के चेहरे पर लगाकर छोड़ दें| सूखने के बाद रुई की मदद से आराम से हटा दें|

#9. मुंह में फोड़ा या अल्सर का होना

अल्सर होने से तुरंत छुटकारा पाने के लिए हल्दी को शहद के साथ मिक्स करके गाढ़ा बना ले| अब उसे फोड़े वाली जगह पर 15 मिनट के लिए लगा दे| बाद में इसे गुनगुने पानी से धो लें| इसका परिणाम आपको तुरंत दिखाई देगा|

 

#10. त्वचा पर चकते

बच्चो की त्वचा बहुत कोमल होती हैं| उस पर कभी डायपर की वजह से रैशेष या चकते पड़ जाते हैं या कभी त्वचा रूखी-सूखी हो जाती हैं लेकिन घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करके इसे सही किया जा सकता हैं| इसके लिए ब्राउन शुगर में शहद को अच्छी तरह से मिक्स करके बच्चों की त्वचा पर हल्के-हल्के हाथो से मसलने से रूखी त्वचा से निजात पाई जा सकती हैं|

 

#11. पेट में दर्द होना

पेट के दर्द से छुटकारा पाने के लिए शहद में थोडा सा अदरक के रस को मिलाकर एक चम्मच अपने बच्चे को पिलाये| इससे बच्चो को बहुत ज्यादा राहत मिलेगी|

 

#12. दातों का दर्द

बच्चों के दांत निकलने वाले होते हैं तो उनको वहां खुजली होती हैं या बहुत ज्यादा दर्द होता हैं| ऐसे समय में आप शहद में थोड़ी लौंग पीस कर मिला लें व बच्चो के मसूड़ों पर हल्के हाथो से रगड़ें| इससे उनकी दांतो की खुजली कम होगी व दांत निकलने में भी आसानी होगी|

 

इसे भी पढ़ें: बच्चों को गाय का दूध देने के 10 फायदे

#13. गले के छालो में फायदा

नवजात बच्चों के मुंह में छालो की दिक्कत अधिकतर होती ही हैं| इस समस्या से राहत पाने के लिए शहद में अदरक व नींबू मिक्स करके अपने बच्चे को पिलाये| इसके इस्तेमाल से टोन्सिल या मुंह के छालो में काफी आराम मिलता हैं|

 

#14. मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में

अपने बच्चों के मेटाबोलिज्म को कायम रखने के लिए एक कप गर्म पानी में शहद व नींबू के रस को मिलाकर रोज सुबह खाली पेट पिलाने से काफी फायदा मिलता हैं| इससे बच्चों का वजन भी काफी हद तक सही रहता हैं|

 

#15. पैरो में पसीने से राहत

पैर में अधिक पसीना आने से त्वचा में दादवायरस संक्रमण हो जाता हैं जिससे बच्चो से लेकर बड़ों तक कई मुसीबतों का सामना करते हैं| इससे निजात पाने के लिए शहद में शुगर क्रीम मिक्स करें और उसे प्रभावित जगह पर लगा दे| दिन में कम से कम 2 बार रोजाना लगाएं, इससे राहत मिलेगी|

 

एक साल से छोटे बच्चों को शहद खिलाने से क्या होता है

एक साल से छोटे बच्चों को शहद देने से बचना चाहिए। दरअसल शहद का प्राकृतिक स्वरूप जटिल होता है जिस कारण इसे बच्चों का कोमल पेट जल्दी नहीं पचा पाता। अगर आप बच्चे को ताजा पेड़ से उतरा हुआ शहद दें तो वह भी बच्चों के लिए खतरनाक है क्योंकि प्राकृतिक अवस्था में शहद बच्चों के पेट में  नहीं पचता।

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने| यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे|

null