बच्चों की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलू उपाय

बच्चों की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलू उपाय

बच्चों के लिए घरेलू नुस्खे पता होने से छोटी-छोटी परेशानियों का घर पर ही इलाज हो सकता हैं। जब तक बच्चे हंसते खेलते रहते हैं सभी को बहुत प्यारे लगते हैं और जब बच्चे रोना शुरु करते हैं तो परेशानी बढ़ा देते हैं। उन्हें समझ नहीं आता है कि उन्हें क्या करना चाहिए, वे तो बस तकलीफ में रोना जानते हैं। इसलिये बड़ों को उनकी परेशानी का अंदाजा लगा कर उनकी समस्या का हल निकालना पड़ता हैं। बच्चों को भी वे परेशानी हो सकती है जो बड़ों को होती हैं। पर कुछ समस्याएं ऐसी होती है जो सामान्य होती हैं और अधिकतर बच्चों को होती भी हैं। इन परेशानियों (Common Childhood diseases) में घरेलू नुस्खे बहुत काम आते हैं।

सामान्य बिमारी व उनका घरेलू उपचार (Common Childhood Diseases and Home Remedies in Hindi)

#1. बच्चों के पेट में दर्द

बच्चो की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: Continental Hospitals

बच्चों को पेट दर्द कई कारणों से हो सकता हैं। स्तनपान करने वाला शिशु भी इससे अछूता नहीं रहता हैं। इसलिये दूध पिलाने वाली मां को ऐसे भोजन से परहेज करना चाहिए जो पचने में भारी हो और पेट में गैस पैदा कर सकती हो।

इसे भी पढ़ें: बच्चों के नाक से नकसीर आने के कारण व 10 घरेलु उपाय

उपचार

  • यदि शिशु के पेट में दर्द हो रहा हैं तो पानी में हींग घोलकर उसकी नाभि के आसपास ये पानी लगा दे। इससे गैस निकल जाएगी और शिशु रोना बंद कर देगा।
  • चौथाई कप पानी में 15-20 दाने अजवाइन के डालकर उबालें। आधा रह जाने पर थोड़ा सा गुड़ मिला दे। थोड़ा गुनगुना होने पर
  • आधा चम्मच सुबह व आधा चम्मच शाम को अपने बच्चे को पिलाये। इससे पेट दर्द भी ठीक होता है और सर्दी लगी हो तो वह भी मिट जाती हैं। सर्दी के मौसम में नहलाने या सिर धोने के बाद इस पानी को पिलाने से सर्दी जुकाम भी नहीं होता हैं।

#2. बच्चों के गुदा में चुरने कीड़े

बच्चो की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: साइंस वर्ल्ड भारत

बच्चों को गुदा में चुरने कीड़े होना आम समस्या हैं जिसके कारण बच्चे रोते रहते हैं। इसकी वजह से बच्चे भी परेशान होते हैं और साथ में बड़े भी।

उपचार

  • ऐसे में थोड़ी सी रुई मिट्टी के तेल में भिगोकर बच्चों के गुदे में लगा दे, इससे चूरन कीड़े खाने बंद हो जाएंगे और बच्चा आराम से सो भी जाएगा।
  • थोड़ा सा टेलकम पाउडर लगाने से चुरने कीड़े खाने तुरंत बंद हो जाते हैं।

#3. बच्चों के कान में दर्द

बच्चो की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: dratamarastaines.com

बच्चा यदि कान के आसपास बार-बार हाथ ले जाकर रो रहा हो तो हो सकता हैं कि उसके कान में दर्द हो रहा हो। बच्चो में कान का दर्द होना बहुत सामान्य बात हैं।

उपचार

  • कान में हल्की सी बाफी (मुंह से गर्म हवा) देने से उसे आराम मिलेगा।
  • कपड़े को हल्का गर्म करके कान के पास सिकाई करने से कान के दर्द में आराम आता हैं।
  • लेटकर स्तनपान कराने से कान में इंफेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती हैं। इसलिये इसका ध्यान रखे।

इसे भी पढ़ें: शिशु के रोने के कारण व शांत कराने के ५ असरदार उपाय

#4. बच्चों को दस्त

बच्चो की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: kalay.com.mm

दूध पीने से कई बार बच्चों की उल्टी, दस्त लगने शुरु हो जाते हैं और कई बार तो बच्चों के मरोड़ भी शुरू हो जाते हैं। दस्त में बच्चो के शरीर में पानी की भी बहुत कमी हो जाती हैं जिस कारण वे बहुत कमजोर भी पड़ जाते हैं।

उपचार

  • जायफल को पानी के साथ घिसे। यह पानी आधा चम्मच सुबह-शाम पिलाने से दस्त बंद हो जाते हैं और सर्दी भी मिटती हैं।
    सेब का रस दिन में तीन बार पिलाने से मरोड़ चलकर होने वाले दस्त में भी आराम मिलता हैं। सेब के छिलके हटाकर उस के टुकड़े
  • करके दूध में उबालकर पीने से गर्मी में होने वाले दस्त ठीक होते हैं।
  • अनार की छाल घिसकर पिलाने से बच्चों के दस्त ठीक हो जाते हैं।
  • एक कप पानी में एक चम्मच सौंफ उबाले। पानी के आधा रह जाने पर उसे छानकर ठंडा होने दें। यह पानी 2-2 चम्मच दिन में 3 से 4 बार पिलाने से दस्त, पेचिश, मरोड़ आदि ठीक हो जाते हैं।
  • पका हुआ केला मसलकर खिलाने से भी दस्त ठीक होते हैं। 2 साल से अधिक उम्र के बच्चों को दही और चावल भी खिला सकते हैं।

#5. दांत निकलते समय खुजली

बच्चो की 5 आम बीमारियां व उससे बचने के घरेलु उपाय

चित्र स्रोत: Mother Nature Network

बच्चों के दांत निकलते समय मसूड़े में बहुत खुजली होती हैं इस कारण वे जो भी हाथ में आए उसे चबाकर खुजली मिटाने की कोशिश करते हैं।

उपचार

  • गाय के दूध में मोटी सौंफ उबालकर 1-1 चम्मच दिन में तीन से चार बार पिलाने से दांत आसानी से निकलते हैं।
  • यदि बच्चे को टीथर दिया हैं तो उसकी सफाई का विशेष ध्यान रखें या फिर ऐसी चीज दे जिसको रोज बदल सके जैसे कि गीला नारियल का टुकड़ा।
  • मसूड़ों पर दिन में चार से पांच बार शहद लगाएं।

इसे भी पढ़ें: क्या बच्चों की आँखों में काजल लगाना ठीक हैं?

क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null