एक साल के बच्चे में क्या-क्या विकास होता है

एक साल के बच्चे में क्या-क्या विकास होता है

एक नवजात बच्चे से लेकर सक्रिय बच्चे तक का सफर केवल 12 महीनों का होता है जिसमें बच्चे में बहुत सारे अविश्वसनीय परिवर्तन देखने को मिलते हैं। बच्चे बहुत ही अद्भुत गति से बढ़ते और बदलते हैं। हर महीने की उम्र में कुछ नया और अनोखा देखने को मिलता है। नए-नए बने माता-पिता यह सोचते हैं कि उनके बच्चे का अगला कदम क्या होगा और उनके बच्चे का विकास सही से हो पा रहा है या नहीं? इसीलिए हम आपके लिए लाएं हैं कुछ ऐसे प्वाइंट्स जो यह बताते हैं कि उन लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रमुख उम्र क्या होनी चाहिए और उस समय क्या-क्या घटित (Baby Development Milestones) हो सकता है। इससे आपको आपके बच्चे को समझने में आसानी होगी और आप उनके विकास में अपना सही सहयोग दे सकेंगे।

 

यह बात अवश्य ध्यान रखें कि हर बच्चा अलग अलग गति से बढ़ता है और यह कोई चिंता का विषय नहीं है। अगर आपका बच्चा एक लक्ष्य तक जल्दी पहुंच जाता है तो शायद वह दूसरे लक्ष्य को प्राप्त करने में देरी कर दे क्योंकि वह अन्य कौशल को परिपूर्ण करने में व्यस्त है।

 

बच्चे का उम्र के हिसाब से विकास (1 Year Baby Development Milestones in Hindi)

1 से 3 महीने के बच्चे (3 Month Baby Development Milestones)

नवजात शिशु बड़े ही गजब होते हैं। रोज उनमें कोई अलग बदलाव देखने को मिलता है। शुरुआत के 3 महीने शिशु के विकास की पहली सीढ़ी होती है। इसमें शिशु का शरीर और दिमाग बाहरी दुनिया में रहना सीखना है जैसे कि मारना, खींचना, चीजों को अपनी उंगलियों से पकड़ना और आवाजों पर अपनी प्रतिक्रिया देना इत्यादि।

आइये जानते हैं कुछ मुख्य पहलु:

  • इस समय बच्चे मुस्कुराना शुरू कर देते हैं। साथ में अपनी आंखों से लोगों की गतिविधियों और चीजों पर ध्यान देने लगते हैं।
  • पेट के बल रखने पर अपना सर और सीना उठाना।
  • हाथों को खोलना, बंद करना और उनको मुंह में लेना।
  • चीजों या खिलौनों को अपने हाथों से कस कर पकड़ना।
  • थोड़ी-थोड़ी देर में रोना और जब कोई प्यार से गोद में उठा कर चुप कराये तो चुप हो जाना।

इसे भी पढ़ेंः  6 महीने के बच्चों को कब क्या खिलाएं? 

 

4 से 6 महीने के बच्चे (6 Month Baby Milestone)

आपके बच्चे को घर में रहते कुछ महीने होने लगते हैं। वह आस-पास के लोगों से घुलने-मिलने लगता है, थोडा बहुत चलने फिरने लगते हैं और अपने चारों ओर की दुनिया को अपने हिसाब से हेराफेरी करके देखते हैं। वह अपने हाथों का ज्यादा इस्तेमाल करने लगते हैं जैसे कि हाथों से बालों को पकड़ना या खिलौने को पकड़ना। हो सकता है कि आपका बच्चा ज्यादा सोने लगे, हंसने लगे, खुश होने पर चिल्लाने लगे। 4 से 6 महीने में आपके बच्चे में यह बदलाव देखने को मिल सकते हैं:

  • सामने से वापस या वापस करने के लिए सामने से ऊपर रोल करें। आमतौर पर पहले आगे से पीछे करते हैं।
  • बड़बड़ाना या फिर अलग-अलग आवाज निकालना जिसकी अलग ही भाषा हो।
  • हंसना और मुस्कुराना।
  • सहायता से बैठना और अपने सर पर अच्छा काबू होना।
  • चीजों को जल्दी से मुंह में डाल लेना।
  • चीजों को हाथ से पकड़ना और उसके साथ छेड़खानी करना।

 

7 से 9 महीने के बच्चे (9 Month Baby Milestone)

साल के दूसरे आधे महीने के अंदर आपका बच्चा बहुत कुछ सीख जाता है जैसे कि वह पहले रोल करके कहीं भी पहुंच जाता था लेकिन अब वह इन कुछ महीनों में यह काम चल कर करना सीखता है। इस समय में आपके बच्चे में यह बदलाव देखने को मिल सकते हैं:

  • इस महीने में वह रेंगना या धीरे-धीरे चलने लगता है।
  • अपने पेट के बल अपने हाथों और पैरों की मदद से हाथों व घुटने से चलने लगता है।
  • कुछ बच्चे रेंगना नहीं सीख पाते हैं और वे धीरे-धीरे आगे बढ़ने से सीधा चलना शुरू कर देते हैं।
  • बिना किसी की सहायता से बैठ जाना।
  • अपने नाम की पहचान करना और उस पर प्रतिक्रिया देना।
  • धीरे धीरे मां और पापा बड़बड़ाना।
  • ताली बजाना और अलग-अलग तरह के खेल खेलना।
  • सीधा खड़ा होना और हाथ हिलाकर बाय करना।
  • बच्चों वाला गाना सुनने पर हाथ हिलाना और धीरे-धीरे नाचना।

इसे भी पढ़ेंः आठ महीने के बच्चे का आहार चार्ट 

 

10 से 12 महीने के बच्चे (One Year Baby Milestone)

यह बच्चों के पहले साल की आखरी बदलाव और विकास की सीढ़ी होती है। वह अब शिशु नहीं रहा पर अब वह एक बच्चे की तरह दिखने लगता है परंतु वह बहुत मायनों में अभी भी छोटा बच्चा ही है। इस दौरान आपको यह देखने को मिल सकता है:

  • अपने आप खाना सीख जाते हैं। इस स्टेज पर आकर बच्चे खाना कैसे खाना है यह काफी हद तक सीख जाते हैं।
  • वे चीजों को खासकर के जो गोल आकार के होते हैं उनको अपने अंगूठे और उंगलियों के बीच में रखकर मुंह में डालना सीख जाते हैं।
  • कमरे के चारों ओर अपने पैरों की मदद से घूमना वह भी बिना किसी की सहायता के।
  • अपने माता पिता को पुकारना जैसे मामा, पापा इत्यादि।
  • खिलौनों की तरफ इशारा करके उन्हें मांगना।
  • आपकी नकल करना।
  • छुपे हुए खिलौने ढूंढ निकालना।

इसे भी पढ़ेंः  एक साल के बच्चे के लिए फूड चार्ट

आपका बच्चा रोज नई-नई चीजें करना सीखता है परंतु जरूरी नहीं कि वह बाकी बच्चों की तरह ही बढ़ें। हर बच्चा अलग गति से बढ़ता है। उसके बढ़ने की गति बाकी बच्चों के मुकाबले धीरे या फिर उनसे तेज भी हो सकती है। अगर फिर भी आपको अपने बच्चे को लेकर कोई चिंता हो रही हो तो आप डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।
क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null