आती और जाती हुई सर्दियों में बच्चों के लिए घरेलू उपाय

आती और जाती हुई सर्दियों में बच्चों के लिए घरेलू उपाय

बच्चों की हंसी हम सभी को प्यारी होती है। बच्चे खुश हों तो हम माओं का काम और आसान हो जाता है। लेकिन बदलता मौसम हम सभी के लिए बड़ी समस्याएं लेकर आता है। बदलते हुए मौसम (badalte hue mausam) में बच्चों का ख्याल रखना एक बड़ी चुनौती होती है। आती हुई सर्दी और जाती हुई सर्दी पर जब मौसम बदलता है तो अपने साथ बिमारियों का पहाड़ लेकर आता है। इस दौरान सूखी खांसी और नाक बहना आम हो जाता है। आइयें जानते हैं कि बदलते हुए मौसम से बच्चों को क्या समस्याएं होती हैं और बच्चों का बदलते हुए मौसम (Baby Care tips for Changing Weather) में कैसे ध्यान रखना चाहिए?  

बदलते मौसम से बच्चों को क्यों होता है खतरा

आती और जाती हुई सर्दी में मौसम बच्चों के लिए अच्छा नहीं होता। इस दौरान तापमान काफी ऊपर नीचे होता है। कभी सर्दी बढ़ जाती है तो कभी कम होती है। सुबह शाम के समय सर्दी अधिक और दिन में धूप काफी तेज होती है। ऐसे में अगर बच्चों की सेहत का ख्याल ना रखें तो वह बीमार पड़ सकते हैं। बदलते मौसम में लापरवाह होने के बजाय बच्चों की अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है। जिस चीज से इस मौसम में सबसे ज्यादा परेशानी होती है वह है तापमान का ऊपर नीचे होना या आम भाषा में कहे तो सर्द गर्म होना। यह कहानी भी अवश्य पढ़ेः सर्दियों में बच्चों की त्वचा का ख्याल रखने के टिप्स

अक्सर यहां होती है हमसे गड़बड़

घर के अंदर का तापमान या दिन का तापमान कई बार बाहर के तापमान से अलग होता है। ऐसे में हम बच्चों को घर के गर्म मौसम के हिसाब से कपड़े पहनाते है या सुबह-शाम के समय बच्चों को गर्म कपड़े नहीं पहनाते। इस स्थिति में जब बच्चे सर्द मौसम के प्रभाव में आते हैं तो उन्हें सर्दी, जुकाम या वायरल संक्रमण हो जाता है। तो आइयें अब जानते हैं कि बदलते मौसम में बच्चों का ख्याल रखने के टिप्स (Baby Care Tips for Changing Weather)।  

बदलते मौसम में बच्चों का ख्याल रखने के लिए टिप्स (Baby Care tips for Changing Weather in Hindi)

साफ सफाई का रखें विशेष ध्यान बदलते हुए मौसम में बच्चों की साफ-सफाई बेहद जरूरी है। अक्सर सर्दी, जुकाम व वायरल बुखार संक्रमण की वजह से फैलता है। आती और जाती हुई सर्दी में अक्सर बच्चों की नाक बहने लगती है। ऐसे में बच्चों की नाक साफ रखें और उनके पास हमेशा रूमाल रखें। संक्रमण से रखें दूर अगर घर में किसी को खांसी-सर्दी है तो उससे बच्चों को दूर रखें। इस दौरान अक्सर बच्चों की आंखे लाल हो सकती है इससे घबराएं नही क्योंकि अमूमन सर्दी की वजह से ऐसा होता है। छाती से आवाज आने या आंखों से अधिक पानी आने पर डॉक्टर से तुरंत सलाह लें। पानी पिलाएं सर्दियों में बच्चे पानी पीने से मना करते हैं। लेकिन पानी ना पीने के कारण सर्दियों में भी परेशानी हो सकती है। बच्चों को हल्का गुनगुना पानी अवश्य पिलाएं। अगर बच्चा काफी छोटा है तो उसे दूध पिलाना ना छोड़े। बच्चे बुखार होने की स्थिति में स्तनपान करना छोड़ देते हैं इसलिए कोशिश करें कि वह लगातार फीड करता रहे। कपड़ों पर दें विशेष ध्यान सर्दियां जब तक पूरी तरह से खत्म ना हो बच्चों को गर्म कपड़े पहनाना बंद ना करें। छोटे बच्चों को इस आती और जाती हुई सर्दी से खतरा होता है इसलिए कोशिश करें कि इस समय बच्चों को लेयरिंग में ही कपड़े पहनाएं। नहलाने पर दें ध्यान बच्चों को हर दिन नहलाना आवश्यक नहीं है। इसके स्थान पर आप चाहे तो बच्चे को एक से दो दिन के बाद गुनगुने पानी से नहला सकती हैं। हर दिन नहलाने के स्थान पर आप बच्चे को स्पंज बाथ दे सकती हैं। स्पंज बाथ देते हुए बच्चे की जांघे और बाजू के नीचे अवश्य साफ करें। आप स्पंज बाथ देते हुए पानी में थोड़ा डिटॉल भी मिला सकते हैं। कान और आंख के संक्रमण से रखें दूर बदलते हुए मौसम (Changing Weather) में बच्चों को सबसे ज्यादा कान और आंख का संक्रमण होने की संभावना होती है। इसलिए कोशिश करें कि अगर सर्दियां आ रही हैं तो बच्चों के कान पर टोपी लगाएं। सर्दियों की सीधी सर्द हवाओं को बच्चों की आंखों में जाने से रोके। नहलाने के बाद बच्चों के कानों की सफाई अवश्य करें। इसे भी पढ़ेंः बच्चों में दिमागी शक्ति बढ़ाने वाले आहार

बदलते मौसम से बच्चों को बचाने के लिए घरेलू उपाय (Home Remedies for Changing Weather in Hindi )

अदरक खिलाएं अगर बच्चे बड़े हैं तो आप बदलते हुए मौसम में उन्हें अदरक और शहद मिलाकर खिला सकते हैं। बदलते मौसम में अदरक का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। यह गले में खराश और खांसी-जुकाम का बहुत अच्छा घरेलू नुस्खा है। नाक पर लगाएं तेल बच्चों के घर से निकलने से पहले नाक पर सरसों का तेल अवश्य लगाएं। यह उन्हें खांसी-जुकाम फैलाने वाले किटाणुओं से दूर रखेगा। हरी सब्जियां खिलाएं बदलते मौसम के साथ बच्चों का खानपान भी बदलने की जरूरत होती है। इसके लिए उनके खाने में प्याज, हरी सब्जियां, जूस, फल शामिल करें। इसके अलावा अपने बच्चो को जितना हो सके ताज़ा और गर्म खाना खिलाये। उन्हें बाहर की चीज़े जैसे स्ट्रीट फूड या चाइनीज फूड आदि न खिलाये। हीटर के बाद सीधे बाहर ना जाएं रूम में अगर हीटर चला रखा है तो उसके बाद सीधे बच्चे को घर से बाहर ना जानें दें। ऐसा करने से तापमान में हुए बदलाव के कारण बच्चों को कोई समस्या हो सकती है। अगर घर से बाहर जाना आवश्यक हो तो कुछ देर पहले रूम का हीटर बंद कर दीजिएं। इम्यून सिस्टम मजबूत बनाने के लिए काढ़ा सर्दियों में बच्चों को सर्दी-जुकाम होने पर सबसे ज्यादा परेशानी इम्यून सिस्टम के कमजोर होने के कारण होती है। इसके लिए आप बच्चे को तुलसी, अदरक, अजवाइन और गुड़ का काढ़ा बनाकर पिलाएं। यह काढ़ा सर्दी जुकाम से भी बच्चों को दूर रखता है और बच्चों के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। इसे भी पढ़ेंः कैल्शियम की कमी दूर करने वाले आहार क्या आप एक माँ के रूप में अन्य माताओं से शब्दों या तस्वीरों के माध्यम से अपने अनुभव बांटना चाहती हैं? अगर हाँ, तो माताओं के संयुक्त संगठन का हिस्सा बने। यहाँ क्लिक करें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

null

null