अपने बच्चे को मच्छरो से कैसे बचाए?

अपने बच्चे को मच्छरो से कैसे बचाए?

जब भी मौसम बदलता हैं तब हमे आस पास मच्छरों का दिखना भी शुरू हो जाता हैं| आपकी सबसे बड़ी चिंता होती होगी कि इन मच्छरों से अपने बच्चे को कैसे बचाए| क्योंकि बच्चो कि त्वचा बहुत नाजुक व कोमल होती हैं और साथ ही साथ वो बाहर पार्क, गली में खेलने जाते हैं, जिसे आप मना भी नही कर सकती| लेकिन जब आप उनके शरीर में मच्छरों के काटने के निशान देखनी हैं तो आपका परेशान होना स्वाभाविक हैं|

बच्चो को मच्छरों से बचाने का १०० प्रतिशक असरदार व सुरक्षित उपाय

हालाँकि आपने अपने बच्चे का टीकाकरण भी कराया होता हैं लेकिन मच्छर से बहुत ही जानलेवा बीमारियाँ हो सकती हैं| जैसे की:

  • मलेरिया
  • पीत ज्वर
  • डेंगू
  • चिकनगुनिया
  • जिका ज्वर, इत्यादि|

ध्यान रखने योग्य बाते

#१. मच्छर ज्यादातर सुबह व सूरज ढलने के बाद ज्यादा सक्रिय होते हैं| तो इस समय अपने बच्चे का खासकर ध्यान रखे|
#२. मच्छर ज्यादातर तेज़ रंग से आकर्षित होते हैं तो उन्हें हलके रंग के कपडे पहनाये|
#३. मच्छर ज्यादातर गंदे पानी में पनपते हैं| इसलिये अपने घर में रोजाना सफाई करे व पानी ना जमा होने दे|
#४. अगर आपके घर में कूलर हैं तो उसकी भी सप्ताह में एक बार सफाई कर दे|
#५. बल्ब या पिली रोशनी मच्छरों को ज्यादा आकर्षित करती हैं, तो इन्हें घर से हटा दे|

मच्छर काटने के मुख्य स्थान

इतना सब करने के बाद भी मच्छरो से बच्चे को बचाना मुश्किल होता हैं क्योंकि वो बाहर घुमने, खेलने जाता हैं| इसमें से कुछ मुख्य स्थान हैं:

मच्छरों से बचने के लिए प्राकृतिक उत्पाद खरीदने के लिए यहा क्लिक करे|

#१. विद्यालय

यह बच्चे का एक तरह से दूसरा घर होता हैं जहा वो अपने घर के बाद सबसे ज्यादा समय बिताता हैं| लेकिन विद्यालय में बहुत से खुले स्थान होते हैं जिससे मच्छर कक्षा, खेलने वाला मैदान या शोचालय में आ जाते हैं|

#२. उद्यान

यहा पर बच्चा सामान्यता अपने दोस्तों के साथ शाम को खेलने जाता हैं| लेकिन उद्यान तो मच्छरो का एक तरह से घर होता हैं क्योंकि वो पूरा खुला स्थान हैं व पेड़ पौधों के कारण वह मच्छर बहुत होते हैं||

#३. मम्मी के साथ

आप जहाँ भी जाती हैं, अपने बच्चे को अपने साथ ही लेकर जाती हैं जैसे कि किसी शादी में, कोई समारोह हो, बाज़ार या कुछ और| यहाँ पर भी आप अपने बच्चे को मच्छरों से बचाने में ही लगी रहती हैं|

कैसे बचाए अपने बच्चे को मच्छरों से

आप घर में कई तरह के उपाय करती हैं जैसे कि कोई स्प्रे छिडकना, कुछ जलाना, लोशन लगाना इत्यादि| लेकिन ये सब बस कुछ समय के लिए असरदार हैं व इनका बुरा प्रभाव भी आप पर व आपके बच्चे पर पड़ता हैं| जैसे कि साँस लेने में दिक्कत इत्यादि| इन सबके अलावा बच्चो को बाहर भेजने में सबसे ज्यादा परेशानी होती हैं|

तो आइये जाने कुछ असरदार उपाय के बारे में:

१. सुरक्षित व असरदार मच्छर निरोधक

मच्छर निरोधक क्रीम सबसे ज्यादा बढ़िया उपाय हैं क्योंकि यह बहार भी आपके बच्चे को मच्छरों से बचाता हैं| आजकल बाज़ार में कई तरह की क्रीम आती हैं लेकिन उनमे केमिकल मिले होते हैं व बहुत तेज़ गंध भी आती हैं| लम्बे समय तक इनको त्वचा पर लगाने से बच्चो के शरीर में एलर्जी हो जाती हैं| इसलिये मैंने इस बारे में अपने डॉक्टर से पूछा तो उन्होंने मुझे Mamaearth की प्राकृतिक व सुरक्षित मच्छर निरोधक क्रीम बताई| जब मैंने इसको अपने बच्चे के शरीर पर लगाया तो ये बहुत ही असरदार निकली क्योंकि न तो इससे तेज़ गंध आती हैं व साथ ही साथ ये प्राकृतिक भी हैं|

Mamaearth की मच्छर निरोधक क्रीम खरीदने के लिए यहा क्लिक करे|

#२. साफ-सफाई रखे

अपने घर कि अच्छे से साफ सफाई रखे| मच्छर ज्यादातर कोने में, गंदे पानी में होते हैं| तो सभी जगह को अच्छे से साफ रखे खासकर जहाँ आपका बच्चा ज्यादातर बैठता हैं| अपने घर पर फ़र्नेल का पोचा लगाये व खिड़की दरवाजे शाम को बंद करदे|

#३. सुबह-शाम नहलाये

अपने बच्चे को सुबह विद्यालय जाने से पहले व शाम को खेलने आने के बाद जरुर नहलाये| क्योंकि मच्छर ज्यादातर पसीने कि गंध सूंघकर आते हैं| इसलिये अपने बच्चे को अच्छे से सुबह व शाम को नहलाये|

#४. पूरी बाजू के कपडे पहनाये

जब भी आप अपने बच्चे को बहार भेजे या घर पर भी, उन्हें हलके रंग के पूरी बाजू के कपडे पहनाये| बच्चो की त्वचा ढकी रहेगी तो वह मच्छरों के काटने से भी बचे रहेंगे|

बच्चो को मच्छरों से बचाने का १०० प्रतिशत सुरक्षित उत्पाद

#५. मच्छरदानी का प्रयोग करे

रात को सोने से पहले अपने बच्चे को कपडे की जालीदार बनी हुई मच्छरदानी के अन्दर सुलाए| इससे मच्छर आपके बच्चे से दूर रहेगे व साथ ही साथ आपका बच्चा भी चैन की नींद सों पायेगा|

अंत में हमेशा इस बात का ध्यान रखे कि जितना आप सतर्क रहेगी उतना ही आपका बच्चा सुरक्षित रहेगा| Mamaearth का यह उत्पाद आपके बच्चे को मच्छरों से बचाने के लिए बहुत उपयागी हैं, इसको सुबह शाम नहाने के बाद अपने बच्चे के शरीर पर लगाइए व चिंतामुक्त होकर अपने बच्चे को बहार पढने या खेलने भेजिए|

null

null